Thursday, January 20, 2022

पुलिस-वकील विवाद में कूदी किरण बेदी, बोली – 31 साल बाद पहले भी…..

- Advertisement -

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर बीते शनिवार (2 नवंबर) को पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प को लेकर पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी की टिप्पणी सामने आई है। जिसमे उन्होने पुलिस को सलाह दी कि वह अपने रुख पर दृढ़ता से कायम रहे चाहे नतीजा कुछ भी हो।

शनिवार को हुई इस झड़प पर प्रतिक्रिया देते हुए बेदी ने कहा कि उन्होंने जनवरी 1988 में ऐसी ही स्थिति का सामना किया था जब सेंट स्टीफन कॉलेज में चोरी के लिए गिरफ्तार किए गए एक वकील को हथकड़ी लगाकर तीस हजारी अदालत में पेश किया गया था। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन मैं अपने रुख पर कायम रही और वकील को हथकड़ी लगाने के लिए जिम्मेदार पुलिसकर्मियों के निलंबन/गिरफ्तारी की वकीलों की मांग के आगे झुकी नहीं।” उन्होंने कहा कि गिरफ्तारी के समय व्यक्ति ने अपने आप को वकील नहीं बताया था और साथ ही पुलिस को दूसरा नाम दिया था।

हालांकि मजिस्ट्रेट ने वकील को उसी दिन छोड़ दिया और दिल्ली पुलिस के कमिश्नर को आरोपी पुलिस कर्मियों के खिलाफ एक्शन लेने को कहा। जिसके बाद 18 जनवरी को वकील अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गए। किरण बेदी ने 20 जनवरी को एक बयान जारी किया और पुलिस के एक्शन को सही करार दिया, उन्होंने कथित ‘चोर’ को छोड़ने के लिए मजिस्ट्रेट की आलोचना भी की।

21 जनवरी को कुछ वकील किरण बेदी से उनके दफ्तर में मिलना चाहते थे. उस दौरान किरण बेदी का दफ्तर तीस हजारी कोर्ट कॉम्पलेक्स में ही मौजूद था। तब लाठी चार्ज का आदेश दे दिया गया। इसमें कई वकील घायल हो गए थे। इसके बाद दिल्ली में हंगामा हो गया। वकील किरण बेदी के इस्तीफे की मांग करते रहे, और 2 महीने तक काम नहीं किया।

वकीलों ने किरण बेदी पर अत्यधिक बल प्रयोग का आरोप लगाया, लेकिन किरण बेदी ने कहा कि पुलिसवाले उनके दफ्तर में जबरन घुस आए थे, वे गालियां दे रहे थे और कपड़े फाड़ दे रहे थे, इसके बाद पुलिस को मजबूरन बल प्रयोग करना पड़ा। आखिरकार इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट को दखल देना और मामले की जांच करने के लिए दो जजों की एक कमेटी गठित की गई। इस कमेटी ने कहा कि आरोपी वकील को हथकड़ी लगाना गलत था। कमेटी ने किरण बेदी के ट्रांसफर की भी सिफारिश की।

उन्होंने कहा कि मौजूदा मामले में भी दिल्ली पुलिस को अपनी बात मजबूती के साथ रखनी चाहिए और उस पर कायम रहना चाहिए चाहे नतीजा जो भी हो।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles