Monday, October 25, 2021

 

 

 

दिल्ली हाई कोर्ट ने चीनी जासूस पत्रकार राजीव शर्मा को 7 दिन की रिमांड पर भेजा

- Advertisement -
- Advertisement -

चीन के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए फ्रीलांस जर्नलिस्ट राजीव शर्मा, चीनी महिला किंग शी और नेपाली नागरिक शेर सिंह को दिल्ली हाईकोर्ट ने सात दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है।  राजीव पर चीनी इंटेलिजेंस को खुफिया जानकारी देने का आरोप है।

दिल्ली पुलिस  (Delhi Police) ने कोर्ट में बताया कि रक्षा मंत्रालय को पत्र लिखा है और पूछा है कि जो डाक्यूमेंट्स बरामद हुए हैं उनका कस्टोडियन कौन है? पत्रकार राजीव (Rajeev Sharma)  के पास से रक्षा से जुड़े बहुत ही सीक्रेट  दस्तावेज बरामद हुए है। उनके मोबाइल और लैपटॉप से काफी ज्यादा डाटा मिला है।

हालांकि पत्रकार राजीव शर्मा के वकील ने पुलिस द्वारा उन पर लगाए आरोपों को गलत बताया है। अधिवक्ता अदिश अग्रवाल ने कहा कि हम इस बात को नहीं नकार रहे हैं कि वह चीनी न्यूज संगठन के लिए काम कर रहे थे, लेकिन पुलिस द्वारा उन पर लगाए आरोप निराधार हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस को उनके मुवक्किल के घर की तलाशी में कोई सबूत नहीं मिले। इसके बावजूद उन्हें फंसाया जा रहा है।

अग्रवाल ने कहा कि जिस समय पुलिस ने राजीव शर्मा को गिरफ्तार किया था उस समय मीडिया को जानकारी दी जा सकती थी, लेकिन ऐसा नहीं किया। इस मामले में रक्षा मंत्रालय के किसी भी अधिकारी से पूछताछ नहीं की जा रही है।राजीव शर्मा के पास मिले दस्तावेज उन्हें किसी और से ही मिले होंगे, न कि उन्होंने अपने घर पर छापे होंगे।

अग्रवाल ने कहा कि गिरफ्तारी के बाद पत्रकार के पास उनके परिवार को जाने की इजाजत नहीं दी गई और न ही यह बताया कि उन्हें क्यों गिरफ्तार किया है। एफआईआर की कॉपी भी ऑनलाइन नहीं मिली थी। जब पत्रकार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अदालत में पेश किया गया तब भी उन्हें कोई वकील उपलब्ध नहीं कराया गया।

उन्होंने कहा कि पुलिस के पास सिर्फ इतनी जानकारी है कि राजीव शर्मा किसी चीनी न्यूज संगठन के साथ काम कर रहे थे। उन्होंने कहा जमानत के लिए अर्जी दायर की है, जिस पर 22 सितंबर को सुनवाई होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles