Wednesday, August 4, 2021

 

 

 

दिल्ली दंगा के में देवांगना-नताशा और आसिफ को मिली हाईकोर्ट से जमानत

- Advertisement -
- Advertisement -

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को दिल्ली दंगों की साजिश मामले में गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम के तहत गिरफ्तार किए गए आसिफ इकबाल तन्हा, देवांगना कलिता और नताशा नरवाल को जमानत दे दी। ये सभी सीएए विरोधी आंदोलन के कार्यकर्ता रहे है।

जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और जस्टिस अनूप जयराम भंभानी की बेंच ने तीनों आरोपियों को जमानत देते हुए कहा: “असहमति को दबाने की अपनी चिंता में, राज्य के दिमाग में, विरोध करने के लिए संवैधानिक रूप से गारंटीकृत अधिकार और आतंकवादी गतिविधि के बीच की रेखा कुछ हद तक कम होती दिख रही है। अगर यह मानसिकता जोर पकड़ती है, तो यह लोकतंत्र के लिए एक दुखद दिन होगा।”

नरवाल और कलिता जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में शोध छात्र हैं जबकि तन्हा जामिया मिलिया इस्लामिया में स्नातक की पढ़ाई कर रहे हैं।

पीठ ने निचली अदालत के इन्हें जमानत ना देने के आदेश को खारिज करते हुए तीनों को नियमित जमानत दी। अदालत ने पिंजड़ा तोड़ कार्यकर्ताओं नताशा नरवाल, देवांगना कालिता और तन्हा को अपने-अपने पासपोर्ट जमा करने, गवाहों को प्रभावित न करने और सबूतों के साथ छेड़खानी न करने का निर्देश भी दिया।

गौरतलब है कि 24 फरवरी 2020 को उत्तर-पूर्व दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून के समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसा भड़क गई थी, जिसने सांप्रदायिक टकराव का रूप ले लिया था। हिंसा में कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई थी तथा करीब 200 लोग घायल हो गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles