Thursday, September 23, 2021

 

 

 

दारुल उलूम देवबंद ने ट्रिपल तलाक पर इलाहबाद हाईकोर्ट की टिप्पणी को पर्सनल लॉ में हस्तक्षेप करार दिया

- Advertisement -
- Advertisement -

devband

ट्रिपल तलाक के खिलाफ इलाहबाद हाईकोर्ट द्वारा की गई टिप्पणी को दारुल उलूम देवबंद ने मुस्लिम पर्सनल लॉ में हस्तक्षेप करार दिया हैं.

दारुल उलूम देवबंद के वाइस चांसलर मुफ्ती अबू कासिम नोमानी ने इस बारें में कहा कि संविधान के अनुच्छेद 25 के तहत देश के सभी धर्मों के लोगों को अपने धर्म का पालन करने की आज़ादी और उसके प्रचार की समान अधिकार दिए गए हैं. ऐसे में न्यायपालिका को मुस्लिम पर्सनल लॉ में दखल नहीं देना चाहिए.

मुफ्ती अबू कासिम नोमानी ने आगे कहा कि इस्लाम में तलाक दिए जाने को अच्छा नहीं माना गया है, फिर चाहे यह एक तलाक हो या दो तलाक या तीन तलाक इसे शरीयत ने ठीक नहीं माना है लेकिन जीवन साथी के बीच झगड़ा होने और मजबूरी की स्थिति पैदा हो जाने पर तलाक दी जाती है. उन्होंने कहा कि पुरुषों की तरह महिलाओं को भी पति से अलग होने का अधिकार ‘खुला’ प्राप्त है.

मुफ्ती नोमानी ने सवाल उठाते हुए कहा कि जब तीन तलाक का मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित हैं तो निचली अदालतों को मुस्लिम पर्सनल लॉ के साथ छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि जब धर्म के अधिकार को संविधान का संरक्षण प्राप्त है तो तलाक देने को संवैधानिक उल्लंघन कैसे माना जा सकता है.

मुफ्ती नोमानी ने कहा कि इस्लाम में महिलाओं को जितने अधिकार दिए गए हैं उतने किसी अन्य धर्म में नहीं दिए गए हैं. उन्होंने यह भी कहा कि मुसलमानों में तलाक के मामले दूसरे धर्मों के मानने वालों से बहुत कम होते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles