ddli

ddli

25 दिसंबर 1927 को डा. अंबेडकर ने मनुस्मृति को आग के हवाले कर ब्राह्मणवाद और जातिवाद के खिलाफ आवाज उठाई थी. डा. अंबेडकर के नक्शेकदम पर चलते हुए देश भर में सोमवार को मनुस्मृति का दहन किया गया.

मेरठ के चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय के मुख्य गेट पर समाजवादी पार्टी से जुड़े छात्र नेताओं ने मनुस्मृति की प्रति का दहन किया. इस दौरान भारत जिंदाबाद और जातिवाद भगाओ का नारा बुलंद करते हुए उन्होंने डा. अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी तरह कोटपूतली में भीमआर्मी सेना के कार्यकर्ताओं ने पालिका पार्क से एसडीएम कार्यालय तक पहेल रैली निकाली. फिर उसके बाद मनु स्मृति द्वारा रचित पुस्तकों को जलाकर विरोध प्रदर्शन किया. साथ ही कार्यकर्ताओं ने मनु स्मृति जलाओ, अंध विश्वास मिटाओ के नारे लगाए.

इसके अलावा राजस्थान के श्रीगंगानगर में भी सोमवार को मनुस्मृति प्रतियों का दहन किया गया. इसके अलावा आंध्रप्रदेश की करीमनगर यूनिवर्सिटी में भी मनुस्मृति दहन की गई. इस दौरान ABVP और दलित छात्रों के संगठन के बीच झड़पों की भी खबर है.

Loading...