Saturday, September 18, 2021

 

 

 

स्टिंग में बड़ा दावा – योगी के गोरखनाथ धाम मंदिर में दलितों की एंट्री पर है बैन

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जुड़े गोरखनाथ धाम मंदिर को लेकर एक निजी चैनल ने एक स्टिंग के जरिये बड़ा दावा किया है। चैनल ने आरोप लगाया कि गोरखनाथ धाम मंदिर में दलितों की एंट्री पर बैन है।

इस संदर्भ में चैनल के वरिष्ठ पत्रकार राहुल कंवल ने एक ट्वीट किया। उन्होंने लिखा, “गोरखपुर के गोरखनाथ धाम समेत भारत के कुछ बड़े मंदिरों में दलितों के प्रवेश पर मनाही, देखिए पुजारी कैसे करते हैं SC समुदाय से बुरा बर्ताव, वोटों के लिए लुभाना और असल में लताड़ना, आंखे खोलने वाला सच देखना ना भूलिए।”

हालांकि यूपी के बीजेपी प्रवक्ता और पूर्व वरिष्ठ पत्रकार शलभ मणि त्रिपाठी ने गोरखनाथ मंदिर में दलितों के प्रवेश पर पाबंदी की बात को झूठ करार दिया। उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि अगर राहुल कंवल का दावा सही होगा तो वे राजनीति छोड़ देंगे। वर्ना राहुल पत्रकारिता छोड़ दें।

त्रिपाठी ने लिखा, “आपने सभी के उत्थान के लिए काम करने वाली गोरक्षपीठ पर फर्जी और आहत करने वाले आरोप लगाए, आपका स्टिंग ऑपरेशन प्रायोजित व दुर्भावनापूर्ण है। दम है तो गोरखनाथ मंदिर में वह जगह दिखाइए जहां दर्शन के वक्त जात पूछी जाती हो। आप दिखा पाए तो राजनीति छोड़ दूंगा, नहीं तो आप पत्रकारिता छोड़िए।”

आपने सभी के उत्थान के लिए काम करने वाली गोरक्षपीठ पर फर्जी और आहत करने वाले आरोप लगाए, आपका स्टिंग आपरेशन प्रायोजित व दुर्भावनापूर्ण है, दम है तो गोरखनाथ मंदिर में वह जगह दिखाइए जहाँ दर्शन के वक़्त जात पूछी जाती हो,आप दिखा पाए तो राजनीति छोड़ दूँगा, नहीं तो आप पत्रकारिता छोड़िए

त्रिपाठी ने अन्य ट्वीट में कहा, “ये मैनेज्ड स्टिंग है और झूठा खुलासा। गोरखनाथ मंदिर के मुख्य पुजारी कमलनाथ जी दलित हैं। भंडारे के कुल 12 रसोइयों में से 7 दलित हैं। गोरक्षपीठ के देवीपाटन मंदिर के मुख्य पुजारी महंत मिथिलेश जी भी दलित हैं। गोरक्षपीठ के महाविद्यालय में स्वीपर का पद ही नहीं, सफाई का काम सब मिलकर करते हैं।”

ये मैनेज्ड स्टिंग है और झूठा ख़ुलासा,गोरखनाथ मंदिर के मुख्यपुजारी कमलनाथ जी ही दलित हैं,भंडारे के कु़ल 12 रसोइयों में 7 दलित हैं,गोरक्षपीठ के देवीपाटन मंदिर के मुख्यपुजारी महंथ मिथिलेश जी भी दलित हैं,गोरक्षपीठ के महाविधालय में स्वीपर का पद ही नहीं, सफ़ाई का काम सब मिलकर करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles