allah

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने कुंभनगरी इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया है। योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद का नाम बदलने पर कहा कि 500 साल पूर्व इलाहाबाद का नाम प्रयाग ही था। त्रिवेणी का संगम होने के कारण यह प्रयागराज हुआ।

सीएम योगी के इस फैसले का सिर्फ भारत मे ही नहीं बल्कि दुनिया भर में तीखा विरोध हो रहा है। दुनिया के कई मुख्य अखबारों ने इस फैसले की आलोचना की है और लिखा है कि हिंदुत्ववादी सरकार ने शहर के मुस्लिम नाम को बदल दिया।

> The Guardian (ब्रिटिश अखबार)

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

द गार्जियन की ओर से लिखा गया है कि राज्य की हिंदुत्ववादी सरकार ने शहर का नाम इस वजह से बदल दिया क्योंकि यह मुस्लिम नाम था. और इसे मुसलमान शासक द्वारा ही दिया गया था.

> Gulf Times ( कतर)

गल्फ टाइम्स ने इस खबर को भी आक्रामक तरीके से पेश किया है. अखबार ने लोगों के मिठाई बांटते हुए फोटो भी लगाई है. साथ ही उन्होंने ये भी लिखा है कि अगले साल होने वाले कुंभ से पहले ये फैसला बड़ा माना जा रहा है.

> Daily Pakistan (पाकिस्तान)

पाकिस्तानी अखबार डेली पाकिस्तान की तरफ से सीधे तौर पर भारतीय जनता पार्टी को निशाने पर लिया गया है. जिसमें कहा गया है कि हिंदुत्ववादी पार्टी BJP की सरकार ने मुस्लिम नाम को बदलकर संस्कृत में शहर का नाम रखा है.

> Independent (ब्रिटेन)

मशहूर अखबार इंडिपेंडेंट ने भी इस खबर को खासी तवज्जो दी. अखबार ने लिखा है कि हिंदू राष्ट्रवादियों की सरकार ने शहर का इस्लामिक नाम बदलकर उसे संस्कृत नाम दिया.

हालांकि सीएम योगी ने विरोध करने वालों पर तंज कसते हुए कहा कि जिन्हें अपने इतिहास और परंपरा के बारे में जानकारी नहीं उनसे बहुत उम्मीद नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि हिमालय से निकलने वाली पवित्र नदियों के किनारे कई प्रयाग हैं लेकिन यह प्रयागों का राजा है। हमारी सरकार ने जनभावना को देखते हुए इसका नाम प्रयाग रखा है।

Loading...