Wednesday, January 26, 2022

काटजू ने गाय को बताया – कुत्ते और घोड़े की तरह जानवर, माता मानने वालों को कहा ‘मूर्ख’

- Advertisement -

राजस्थान में भाजपा के पूर्व विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने गाय को लेकर एक बार फिर विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा, गौ माता सबकी है, मुसलमान अगर नहीं मानते तो उनको भी मानना चाहिए, पारसी भी गाय का मांस नहीं खाते। मुसलमान भाइयों को भी अपने हिंदू भाइयों की भावनाओं का सम्मान करते हुए गाय का मांस नहीं खाना चाहिए। वे गौ तस्करी का भी विरोध करें।

इसी बीच सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मार्कंडेय काटजू का भी गाय से जुड़ा एक बयान इन दिनों सुर्खियों में है। जिसमे वे गाय की तुलना कुत्ता और घोड़ा जैसे जानवरों से करते हैं। वह सरकार पर उंगली उठाते हुए कहते हैं कि वह 6 महीने अमेरिका में रहकर आए हैं और वहां लोग हिंदुस्तान का मजाक उड़ाते हैं। काटजू कहते हैं कि दुनिया में लोग कहते हैं कि यहां गधे भरे पड़े हैं। इस दौरान उन्होने गाय को माता मानने वालों को मूर्ख तक करार दे दिया।

साथ ही काटजू ने बीते दिनों नोएडा के एक पार्क में नमाज अदा करने पर रोक लगाए जाने को लेकर अपनी नाराजगी व्यक्त की है। काटजू ने इसके जरिये सरकार से सवाल किया है कि पार्क में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) की शाखाएं नहीं रोकते हैं तो नमाज पर रोक क्यो?

स्थानीय यूट्यूब चैनल से बातचीत के दौरान काटजू ने कहा, ”हमारे संविधान में आर्टिकल 19(1) बी है, जो कहता है कि ऑल सिटीजन्स हैव राइट टू पीसफुल्ली असेंबल विदआउट आर्म्स.. तो ये उस संविधान की धारा का घोर उल्लंघन हैं। मैंने देखा है कि आरएसएस की शाखाएं होती है पार्क्स में यहां-वहां.. उसपे तो कोई प्रतिबंध नहीं, उनको तो परमीशन नहीं लेनी पड़ती है.. और फ्राइडे की नमाज 45 मिनट या एक घंटे की होती है उसमें क्या ऐतराज है कि कोई नमाज अगर पढ़ ले तो किसी का सर काट लिया.. किसी का पैर काट लिया.. कर रहे हैं करने दो जिसको.. आजादी होनी चाहिए.. तो ये तो बिल्कुल गलत आदेश हुआ है और मैं इसका घोर विरोध करता हूं।”

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles