गुवाहटी | एमसीडी इलेक्शन में व्यस्त चल रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविन्द केजरीवाल को असम की एक अदालत ने झटका देते हुए उनके खिलाफ गिरफ़्तारी का जमानती वारंट जारी किया है. अदालत में पिछली सुनवाई के दौरान पेश नही होने के बाद अदालत ने यह वारंट जारी किया. हालाँकि केजरीवाल ने एमसीडी इलेक्शन में व्यस्ताओ को भी हवाला दिया लेकिन अदालत ने इसको ख़ारिज कर दिया.

दरअसल प्रधानमंत्री मोदी की डिग्री पर सवाल उठाने को लेकर असम की स्थानीय अदालत में केजरीवाल के खिलाफ अपराधिक मानहानि का मुकादमा दर्ज किया गया था. इसी मामले में सुनवाई करते हुए अदालत ने केजरीवाल को हाजिर होने का आदेश दिया था. लेकिन एमसीडी इलेक्शन में व्यस्ताओ के चलते वो अदालत में पेश नही हो सके. हालाँकि उनके वकील ने अदालत से आगे की तारीख देने की अपील की थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अदालत ने केजरीवाल की अपील को ठुकराते हुए उनके खिलाफ गिरफ़्तारी का जमानती वारंट जारी कर दिया. बताते चले की पिछले साल दिसम्बर में केजरीवाल ने ट्वीट कर मोदी की डिग्री पर सवाल उठाये थे. उन्होंने लिखा था,’ मोदी जी 12वी पास है, उसके बाद की डिग्री फर्जी है.’ केजरीवाल के ट्वीट पर बीजेपी नेता सूर्य रोंगफर ने उनके खिलाफ अपराधिक मानहानि का मामला दर्ज कराया था.

केजरीवाल ने इसके बाद मुख्य सूचना आयुक्त को पत्र लिखकर उनसे अपील की थी की वो दिल्ली यूनिवर्सिटी से पीएम मोदी के शैक्षिक कागजात सार्वजानिक करने का आदेश दे. इस पत्र का संज्ञान लेते हुए सूचना आयुक्त ने दिल्ली यूनिवर्सिटी को आदेश दिया था की वो पीएम मोदी के शिक्षित दस्तावेज सार्वजानिक करे. लेकिन बाद में गुजरात हाई कोर्ट ने सूचना आयुक्त के आदेश पर रोक लगा दी थी.

Loading...