देश की जनता इस सपने को सजोयें कि उन्हें अब भ्रष्टाचार से निजात मिल जाएगी. लेकिन देश की जनता को एक बार फिर से निराशा ही हाथ लगी हैं.

दरअसल एक सर्वे में खुलासा हुआ हैं कि भारत ने रिश्वतखोरी के मामलें में चीन और पाकिस्तान को पछाड़ कर एशिया में नंबर वन स्थान हासिल किया हैं. अंतरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार निरोधक अधिकार समूह ‘ट्रांसपेरंसी इंटरनैशनल’ द्वारा कराए गए इस सर्वे के अनुसार, भारत में 69 फीसदी लोगों ने रिश्वत देने की बात स्वीकारी हैं जबकि पाकिस्तान में 40 फीसदी और चीन में 26 फीसदी लोग रिश्वत देते हैं.

सर्वे के मुताबिक, रिश्वत के मामले में पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, जापान, म्यांमार, श्रीलंका और थाईलैंड जैसे देश को पीछे छोड़ भारत का स्थान सातवां रहा हैं. सर्वे में कहा गया है कि रिश्वत की मांग करने वाले लोकसेवकों में पुलिस सबसे ऊपर हैं. पुलिस के बाद पांच सर्वाधिक भ्रष्ट श्रेणी में सरकारी अधिकारी (84 प्रतिशत) , कारोबारी अधिकारी (79 फीसदी) , स्थानीय पार्षद (78 प्रतिशत) और सांसद (76 फीसी) रहे जबकि कर अधिकारी छठे स्थान (74 फीसदी) पर हैं.

ट्रांसपेरंसी इंटरनैशनल के अध्यक्ष जोस उगाज ने कहा ‘सरकारों को अपनी भ्रष्टाचार निरोधक प्रतिबद्धताओं को हकीकत का रूप देने के लिए और अधिक प्रयास करने चाहिए. यह समय कहने का नहीं बल्कि करने का है. लाखों की संख्या में लोग लोकसेवकों को रिश्वत देने के लिए बाध्य होते हैं और इस बुराई का सर्वाधिक असर गरीब लोगों पर पडता है.’

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?