नयी दिल्ली | फतेहपुर रैली में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिया गया भाषण विवादों के घेरे में आ गया है. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने प्रधानमंत्री के बयान के खिलाफ चुनाव आयोग जाने का मन बनाया है. इसके अलावा कांग्रेस ने इस बयान को बेहद ही आपत्तिजनक और खेदपूर्ण बताया है. वही राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भी मोदी के भाषण की आलोचना करते हुए इसे बेहद ही छोटी और ओछी बात करार दिया है.

दरअसल प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को फतेहपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा की था की किसी भी सरकार को धर्म और जाती के आधार पर लोगो से भेदभाव नही करना चाहिए. हमारी सरकार सबका साथ सबका विकास की नीति पर काम कर रही है. और हम उम्मीद करते है की बाकी सभी सरकार भी इसी निति का अनुशरण करे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मोदी ने आगे कहा की अगर आप किसी गाँव में कब्रिस्तान बना रहे है तो वहां शमशान भी बनना चाहिए, अगर आप रमजान में बिजली दे रहे है तो दिवाली पर भी बिजली आनी चाहिए. धर्म के आधार पर यह भेदभाव नही होना चाहिए. मोदी के इस बयान पर कल से ही हंगामा मचा हुआ है. समाजवादी पार्टी से लेकर कांग्रेस तक , सभी ने मोदी के इस बयान की कड़ी निंदा की है.

कांग्रेस ने एक कदम आगे बढाते हुए मोदी के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत करने का फैसला किया है. कांग्रेस के क़ानूनी एवं मानवाधिकार विभाग के सचिव के सी मित्तल ने एएनआई से बात करते हुए कहा की कांग्रेस पार्टी प्रधानमंत्री मोदी के इस दुखद बयान को लेकर चुनाव आयोग से शिकायत करेगी. इससे पहले बीजेपी भी राहुल गाँधी के ,कांग्रेस पार्टी के निशान ‘पंजे’ को कई धार्मिक प्रतिको के साथ जोड़ने वाले बयान पर चुनाव आयोग का रुख कर चुकी है.

Loading...