Tuesday, January 25, 2022

पटना में कॉलेज ने मुस्लिम महिलाओं के कैंपस में बुर्का पहनने पर लगाया बैन

- Advertisement -

पटना. बिहार के पटना स्थित जेडी वीमेंस कॉलेज में छात्राओं के बुर्का पहनकर आने पर बैन लगा दिया। कॉलेज प्रशासन की तरफ से कहा गया है कि अगर इन नियमों का छात्राएं पालन नहीं करेंगी तो उन्हें 250 रुपए फाइन देना हाेगा।

नोटिस का बचाव करते हुए कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ श्यामा रॉय ने कहा,’ इस आदेश में नया कुछ भी नहीं है। इसका उद्देश्य कॉलेज ड्रेस कोड लागू करना है, जो सलवार-कमीज और दुपट्टा है। ड्रेस कोड का उद्देश्य कॉलेज परिसर में एकरूपता लाना है।’ उन्होंने कहा कि कॉलेज में ड्रेस कोड सात वर्षों से भी अधिक समय से लागू है।

हालांकि बवाल मचने के बाद 24 घंटे में ही कॉलेज प्रशासन ने अपने आदेश को वापस ले लिया। शनिवार को प्राचार्या श्यामा राय ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा- कॉलेज ने ड्रेस कोड संबंधी उस आदेश को वापस ले लिया है, जिसमें छात्राओं के बुर्का पहनकर आने पर पाबंदी लगाई गई थी।

वर्ल्ड इंस्टीट्यूट ऑफ इस्लामिक स्टडीज फॉर डायलॉग की डीजी डॉ. जीनत शौकत अली कहती हैं कि बुर्का शब्द कहीं पर भी कुरान में नहीं आया है। कॉलेज अगर किसी के विशेष पहनावे पर रोक लगाता है तो यह व्यक्ति के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन हो सकता है। इस्लाम में कहीं नहीं कहा गया है कि बच्चियां बुर्का पहनकर पढ़ने जाएं। बस महिलाओं को सम्मानजनक तरीके से कपड़े पहनने को कहा गया है। छोटी-छोटी बातों को तूल देने के बजाए बच्चियों को पढ़ाने पर जोर देना चाहिए।

इसी बीच राष्ट्रीय जनता दल ने कॉलेज के इस आदेश को ‘तालिबानी ऑर्डर’ कहा है और मांग की है कि वह इसे वापस लें। आरजेडी के विधायक भाई बीरेंद्र ने कहा, ‘ यह एक तालिबानी आदेश है। आपत्तिजनक कपड़ों पर प्रतिबंध होना चाहिए लेकिन बुर्का या कुर्ता-पायजामा में कुछ भी गलत नहीं है। हम मांग करते हैं कि कॉलेज अपना नोटिस वापस ले।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles