लखनऊ | उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर में बच्चो की मौत का सिलसिला थमने का नाम नही ले रहा है. अकेले अगस्त महीने में ही गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 290 बच्चो की मौत हो चुकी है. इनमे से 61 बच्चो की मौत पिछले 72 घंटो के दौरान हुई है. इस तरह हो रही बच्चो की मौत पर विपक्षी दलों ने राज्य सरकार को घेरना शुरू कर दिया है. जिससे सरकार थोडा बेकफूट पर नजर आ रही है.

लेकिन सरकार की तरफ से असंवेदनशील बयान देने का सिलसिला भी जारी है. खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पर बेहद असंवेदनशील बयान दिया. उन्होंने कहा की देश में लोग अपनी जिम्मेदारियों से भागने के आदि है. इसलिए कही ऐसा न हो की वो अपने बच्चो को भी सरकार के भरोसे छोड़ दे. योगी का यह बयान विपक्षी पार्टियों को बैठे बिठाये एक मुद्दा दे गया. इसलिए उम्मीद है की विपक्ष इस बयान को एक हथियार की तरह इस्तेमाल करे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सीएम योगी बुधार को लखनऊ के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. इसी बीच उन्होंने लोगो के अपनी जिम्मेदारियों से भागने पर तंज कसा. उन्होंने कहा की मीडिया कहता है की फलानी जगह कूड़ा पड़ा हुआ है , हम लोग मानते है की यह सरकार की जिम्मेदारी है लेकिन बाकी सभी अपनी जिम्मेदारियों से मुक्त हो गए है.

योगी यही नही रुके उन्होंने आगे कहा की अगर ऐसा ही रहा तो ऐसा भी हो सकता है की लोग अपने बच्चे 2 साल के होते ही सरकार के भरोसे छोड़ दे. सरकार उनका पालन पोषण करे. योगी का यह बयान गोरखपुर में हो रही बच्चो की मौतो से जोड़कर देखा जा रहा है. इसलिए सोशल मीडिया पर उन्हें खूब खरी खरी सुनाई जा रही है. एक यूजर लिखा है की एक बात साफ़ हो गयी की यूपी सरकार केवल भजन करेगी , प्रदेश की कोई जिम्मेदारी नही निभाएगी.

Loading...