उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री और भाजपा नेता मुकुट बिहारी वर्मा को सुप्रीम कोर्ट ने लताड़ लगाई है। दरअसल, वर्मा का कहना है कि अयोध्या में विवादित बाबरी मस्जिद के स्थान पर राम मंदिर नहीं बनाने का सवाल ही नहीं उठता क्योंकि सुप्रीम कोर्ट हमारा है।

बाबरी मस्जिद जमीन विवाद पर सुनवाई के 22वें दिन वर्मा की टिप्पणी पर कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की और उस पर उनकी कड़ी निंदा की। मुस्लिम पक्ष की ओर से वकील और कार्यकर्ता राजीव धवन ने कोर्ट से कहा था कि कोर्ट में इस मसले पर चर्चा जारी रखने वाला माहौल नहीं है।

उन्होंने आगे कहा था, “मेरी कानून टीम के क्लर्क को फिर से अन्य क्लर्क्स द्वारा धमकियां दी गई हैं।” धवन ने यह शिकायत करते हुए मुकुट बिहारी वर्मा के बयान का हवाला भी दिया था। सीजेआई ने इसी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “हम ऐसी (वर्मा द्वारा) टिप्पणियों की निंदा करते हैं। ऐसी बातें बिल्कुल नहीं कही जानी चाहिए।”

justice ranjan gogoi 1

हालांकि, इस बयान की आलोचना होने पर भाजपा नेता ने कहा कि उन्होंने ऐसा कभी नहीं कहा कि सुप्रीम कोर्ट सरकार का है, उनका मतलब था कि भारतीय अदालत में विश्वास करते हैं। सुप्रीम कोर्ट हमारा है से मेरा मतलब था कि हम इस देश के निवासी हैं और हम सुप्रीम कोर्ट में विश्वास करते हैं। मैंने ऐसा कभी नहीं कहा कि यह हमारी सरकार का है ।

हालांकि, वह इस बात को विस्तार से समझा नहीं पाए कि वह इतने आश्वस्त कैसे हैं कि अदालत विवादित स्थल पर मंदिर निर्माण के लिए उनके पक्ष में फैसला सुनाएगी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन