नई दिल्ली: चीन बार-बार भारतीय सीमा में घुस आने की अपनी हरकतों से बाज आता नजर नहीं आ रहा है। पिछले दिनों उत्तराखंड की सीमा में बाड़ाहोती में चीनी सैनिक घुस आए थे। अब चीन ने एक बार फिर भारत को उकसाने वाली हरकत की है। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिक अरुणाचल प्रदेश के अपर दिबांग वैली में घुस आए। यह जानकारी दिबांग वैली के स्थानीय नागरिकों ने दी है। मामला करीब छह दिन पुराना बताया जा रहा है।

टाइम्स नाउ के मुताबित दिबांग वैली में करीब 11 सैनिक घूत रहे थे। अरुणाचल प्रदेश में चीनी सैनिकों के दाखिल होने की यह कोई पहली घटना नहीं है। पिछले साल डोकलाम में चीनी सैनिकों ने घुसपैठ की थी। घुसपैठ की इस घटना को लेकर भारत और चीन के बीच दो महीनों से ज्यादा समय तक गतिरोध चला और भारत के कूटनीतिकि प्रयासों के चलते चीनी सेना को डोकलाम से पीछे हटना पड़ा था। अरुणाचल में चीनी सैनिकों के देखे जाने की यह पहली घटना नहीं है। चीनी सैनिकों की 2018 में 170 से ज्यादा बार भारतीय इलाकों में दाखिल होने की घटना सामने आई हैं, जबकि 2017 में इस तरह की 426 घटनाएं हुईं थी।

जून 2017 में चीनी सैनिकों ने डोकलाम में घुसपैठ की थी। चीनी सैनिक यहां पर एक सड़क का निर्माण कर रहे थे जिसे भारतीय सैनिकों ने रोक दिया। इसके बाद दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने आ गए। इसे लेकर भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ गया। इस दौरान 73 दिनों तक दोनों देशों के बीच टकराव जैसी स्थिति बनी रही लेकिन भारत के कूटनीतिक प्रयासों के चलते चीन को पीछे हटने पड़ा।

डोकलाम एक विवादित पहाड़ी क्षेत्र है, जिस पर चीन और भूटान दोनों दावा करते हैं। भारत इस मामले में भूटान के दावों का समर्थन करता है। भारत और चीन के बीच सीमा विवाद काफी पुराना है। कई जगहों पर सीमा निर्धारण पर स्थिति स्पष्ट नहीं है। हालांकि, सीमा विवाद को सुलझाने के लिए दोनों देशों के बीच उच्च स्तरीय वार्ता जारी है।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें