स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी लाल किले की प्राचीर से देशवासियों को सुरक्षा के लिए आश्वासित कर रहे थे, तो वहीँ दूसरी और चीनी सैनिक लद्दाख में घुसपेठ कर रहे थे. हालांकि भारतीय सेना ने इस घुसपेठ को नाकाम कर दिया.

पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों ने सुबह छह बजे से नौ बजे के बीच दो इलाकों- फिंगर फोर और फिंगर फाइव में भारतीय सीमा में दाखिल होने का दो बार प्रयास किया. चीनी सैनिक लद्दाख में मशहूर पानगोंग झील के किनारे तक घुस आये.

हालांकि इस दौरान भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों के सामने मानव श्रृंखला बनाकर खड़े हो गए, जिसके चलते उन्होंने पत्थर फेंकना शुरू कर दिया. भारतीय जवानों ने भी जवाब पथराव किया. इस घटना में दोनों तरफ के लोगों को मामूली चोटें आईं और रस्मी ‘बैनर ड्रिल’ के बाद स्थिति को नियंत्रण में लाया गया.

इस मामले में सेना हाल-फ़िलहाल कुछ भी कहने से बच रही है.  यह घटना उस वक्त हुई है जब सिक्किम सेक्टर में डोकलाम में दोनों देशों के बीच गतिरोध बना हुआ है.

यह इलाका दोनों देशों के बीच गतिरोध का केंद्र रहा है क्योंकि दोनों इसे अपने क्षेत्र का हिस्सा बताते हैं. अधिकारियों ने कहा कि भारतीय पक्ष ने 1990 के दशक के आखिर में हुई बातचीत के दौरान जब इस इलाके पर दावा किया था तब चीनी सेना ने मेटल-टॉप रोड का निर्माण किया था और इस बात पर जोर दिया था कि यह अक्साई चीन का हिस्सा है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?