Monday, October 25, 2021

 

 

 

पैंगोंग झील के दक्षिणी तट पर चीनी और भारतीय सैनिकों में हुई झड़प

- Advertisement -
- Advertisement -

भारत और चीन के सैनिकों की बीच एक बार फिर से झड़प का मामला सामने आया है। 29-30 अगस्त की रात को ईस्टर्न लद्दाख क्षेत्र में पैंगोंग झील इलाके के पास चीनी सैनिकों ने गतिविधि की। जिसका भारतीय सैनिकों ने विरोध किया। प्रेस इन्‍फॉर्मेशन ब्‍यूरो की रिलीज के अनुसार, सेना ने चीन को आगे बढ़ने नहीं दिया। भारत ने इस इलाके में तैनाती और बढ़ा दी है।

सरकार की और से जारी बयान के मुताबिक, 29-30 2020 की रात को चीनी सेना PLA के जवानों ने पिछली बैठकों में जो समझौता हुआ था उसे तोड़ा और ईस्टर्न लद्दाख के पास हालात को बदलने की कोशिश करते हुए घुसपैठ की। हालांकि, भारतीय जवानों ने PLA की इस कोशिश को नाकाम किया और पैंगोंग लेक के दक्षिणी किनारे पर ही चीनी सेना को घुसपैठ से रोक दिया।

सेना के पीआरओ कर्नल अमन आनंद की ओर से जारी बयान में कहा गया कि भारतीय सेना बातचीत के जरिए शांति स्‍थापित करना चाहती है लेकिन अपने देश की रक्षा के लिए भी उतनी ही संकल्‍पबद्ध है। इस विवाद को सुलझाने के लिए चुशूल इलाके में ब्रिगेड कमांडर लेवल की फ्लैग मीटिंग की जा रही है।

इकॉनमिक टाइम्‍स के सूत्रों के अनुसार, ताजा झड़प के बाद चुशूल में सैनिकों की भारी तैनाती की गई है। सेना अभी ज्यादा डिटेल्‍स नहीं दे रही है। बता दें कि 15 जून की रात को गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद चीन बॉर्डर पर हुई यह दूसरी सबसे बड़ी घटना है।

15-16 जून को लद्दाख की गलवान घाटी में एलएसी पर हुई इस झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल समेत 20 सैनिकों की मौत हुई थी। इस घटना के बाद से ही दोनों देशों के बीच वार्ता के बावजूद भी तनाव चरम पर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles