Sunday, August 1, 2021

 

 

 

लद्दाख सीमा के करीब एयरबेस पर चीन ने तैनात किए लड़ाकू विमान: रिपोर्ट

- Advertisement -
- Advertisement -

भारत और चीनी सैनिकों के बीच लद्दाख में झड़प की खबरे लगातार आ रही है। इसी बीच अब चीन की और से सीमा के करीब एयरबेस पर लड़ाकू विमान तैनात करने की मीडिया रिपोर्ट सामने आई है। कुछ सैटेलाइट इमेज के हवाले से कहा गया कि चीनॉ पांगोंग सा लेक से करीब 200 किलोमीटर दूर स्थित एयरबेस पर निर्माण गतिविधियां तेज कर रहा है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन इस बेस पर एक हवाई पट्टी बनाने में जुटा है, जिसे हेलिकॉप्टर या फाइटर एयरक्राफ्ट को उड़ाने में आसानी होगी। न्यूज वेबसाइट एनडीटीवी ने ओपन सोर्स इंटेलिजेंस एक्सपर्ट detresfa_ की तिब्बत स्थित नगारी गुनसा एयरपोर्ट की दो सैटेलाइट इमेजेस हासिल की हैं। पहली तस्वीर इसी साल 6 अप्रैल की है, जबकि दूसरी तस्वीर 21 मई की है।

इन तसवीरों में साफ देखा जा सकता है कि एयरबेस पर चीनी सेना दूसरे टैक्सी ट्रैक का निर्माण करने में जुटी है। एक तीसरी सैटेलाइट इमेज में मुख्य हवाई पट्टी को दिखाया गया है, जिस पर पहले से ही चीनी फाइटर जेट खड़े हैं। माना जा रहा है कि यह चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के जे-11 और जे-16 फाइटर जेट्स हो सकते हैं।

गौरतलब है कि जे-11 और जे-16 रूस के सुखोई 27 के चीनी वर्जन हैं और इनकी क्षमता भारत के सुखोई-30 फाइटर विमान जैसी ही हैं। सैटेलाइट इमेज में दिखाया गया है कि इन जेट्स को तिब्बती एयरबेस पर पहली बार दिसंबर 2019 में देखा गया था।

भारत के लिए नगारी गुनसा एयरबेस की लोकेशन खास मायने रखती है, क्योंकि यह बेस 14 हजार 22 फीट पर है, जो कि इसे दुनिया में सबसे ऊंचा एयरबेस बनाता है। हालांकि, एलएसी के पास मौजूद होने के बावजूद इतनी ऊंचाई पर लड़ाकू विमान सीमित युद्धक सामग्री के साथ ही उड़ान भर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles