Wednesday, October 20, 2021

 

 

 

लद्दाख में LAC पर चीन ने किया 1000 वर्ग किमी क्षेत्र पर कब्जा

- Advertisement -
- Advertisement -

केंद्र को दिए गए खुफिया इनपुट में कहा गया कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के साथ लद्दाख में लगभग 1,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र अब चीनी नियंत्रण में है। इस बात की जानकारी ‘द हिन्दू’ ने अपनी रिपोर्ट में दी है।

चीन अप्रैल से मई तक LAC के पास अपनी उपस्थिति दर्ज कर रहा है और सैनिकों को एकत्र कर रहा है। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की सेना के साथ हुई हिंसक झड़पों में पूर्वी लद्दाख की गालवान घाटी में 15 जून को बीस भारतीय सैनिक मारे गए।

अख़बार ने एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से लिखा है कि देपसांग प्लेन से चुसुल तक चीन ने अपरिभाषित एलएसी के पास व्यवस्थित तरीके से सेना बढ़ाई है. गलवान वैली में 20 वर्ग किमी., हॉट स्प्रिंग्स में 12 वर्ग किमी., पैंगॉन्ग सो में 65 वर्ग किमी. और चुसुल में 20 वर्ग किमी. का इलाक़ा चीन के कब्ज़े में है।

चीन की सीमा पर कूटनीतिक और सैन्य स्तर की कई दौर की वार्ता के बाद भी गतिरोध जारी है। हाल ही में 29-30 अगस्त की रात को भारत और चीन के सैनिकों की बीच एक बार फिर से झड़प का मामला सामने आया है। ईस्टर्न लद्दाख क्षेत्र में पैंगोंग झील इलाके के पास चीनी सैनिकों ने गतिविधि की। जिसका भारतीय सैनिकों ने विरोध किया।

प्रेस इन्‍फॉर्मेशन ब्‍यूरो की रिलीज के अनुसार, सेना ने चीन को आगे बढ़ने नहीं दिया। भारत ने इस इलाके में तैनाती और बढ़ा दी है। सरकार की और से जारी बयान के मुताबिक, 29-30 2020 की रात को चीनी सेना PLA के जवानों ने पिछली बैठकों में जो समझौता हुआ था उसे तोड़ा और ईस्टर्न लद्दाख के पास हालात को बदलने की कोशिश करते हुए घुसपैठ की।

हालांकि, भारतीय जवानों ने PLA की इस कोशिश को नाकाम किया और पैंगोंग लेक के दक्षिणी किनारे पर ही चीनी सेना को घुसपैठ से रोक दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles