Friday, January 28, 2022

CAA विरोध पर बोले चीफ जस्टिस बोबडे – देश मुश्किल वक्त से गुजर रहा….

- Advertisement -

नई दिल्ली : नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ देशभर में हो रहे विरोध प्रदर्शनों को लेकर मुख्य न्यायाधीश जस्टिस अरविंद बोबडे (CJI Sharad Arvind Bobde) ने चिंता जताई है.

सीजेआई CJI एस ए बोबडे ने कहा कि देश कठिन समय से गुजर रहा है. शांति के लिए प्रयास होना चाहिए. सीजेआई ने कहा कि इस तरह की याचिकाएं मदद नहीं करती. जब हिंसा रुकेगी हम संवैधानिकता पर सुनवाई करेंगे.

शीर्ष अदालत ने वकील विनीत ढांडा से कहा कि ‘देश मुश्किल दौर से गुज़र रहा है, इसलिए शांति बनाए रखने के प्रयास होने चाहिए. ऐसी याचिकाओं से कुछ नहीं होगा’. ढांडा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर सीएए को ‘संवैधानिक’ घोषित करने की माँग की थी.

चीफ जस्टिस ने इस दौरान ये भी कहा कि हम कैसे घोषित कर सकते हैं कि संसद द्वारा अधिनियम संवैधानिक है? हमेशा संवैधानिकता का अनुमान ही लगाया जा सकता है. यदि आप किसी समय कानून के छात्र रहे तो आपको पता होना चाहिए.

चीफ़ जस्टिस बोबडे ने वकील ढांडा से कहा कि वे ऐसी याचिका दायर करके आंदोलनों को और हवा दे रहे हैं. चीफ़ जस्टिस ने कहा, “हमने कभी ऐसा कुछ सुना नहीं कि किसी अधिनियम को संवैधानिक बनाया जाए.”

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में नागरिकता संशोधन कानून पर रोक लगाने के लिए सौ से ज्यादा याचिकाएं दायर की गई हैं. पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट ने इसको लेकर केंद्र को नोटिस जारी कर दिया था.

मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, जस्टिस बीआर गवई और सूर्य कांत की पीठ ने केंद्र से कहा कि वे इस संबंध में दायर सभी याचिकाओं पर जनवरी के दूसरे हफ्ते तक जवाब दायर करें.

इस बीच केंद्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय से अनुरोध किया कि विभिन्न उच्च न्यायालयों में लंबित नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाएं शीर्ष अदालत में स्थानांतरित की जाएं.

मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा है कि वो 10 जनवरी को केंद्र की स्थानांतरण याचिका पर सुनवाई करेगी. न्यायमूर्ति बीआर गवई और न्यायमूर्ति सूर्य कांत भी इस पीठ का हिस्सा थे.

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles