सलाफी स्कॉलर जाकिर नाईक के खिलाफ राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने चार्जशीट तैयार कर ली है. जल्द ही सारी ओपचारिकता पूरी कर एनआईए इसी सप्ताह विशेष अदालत में आरोपपत्र दाखिल करेगी.

ध्यान रहे जाकिर पर मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग मामले में मामला चल रहा है. मुम्बई की विशेष अदालत पहले ही जाकिर को भगोड़ा घोषित कर उसकी संपति कुर्क करने का आदेश दे चुकी है. इससे पहले जाकिर नाईक का पासपोर्ट निरस्त भी कर दिया गया है. इसके अलावा भारत में जाकिर नाइक के पीस टीवी चैनल को भी बैन किया जा चूका है.

केंद्र सरकार नाइक के इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को भी गैरकानूनी घोषित कर उसे आतंकी संगठनों की सूची में डाल चुकी है. इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को 17 नवंबर 2016 की अधिसूचना के तहत प्रतिबंधित सूची में डाला गया है. इस सूची में अलकायदा, इस्लामिक स्टेट, आईएसआईएस, दायेश सहित करीब 38 आतंकी संगठन शामिल है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आप को बता दें कि जाकिर नाईक इस समय मलेशिया में रह रहा है. कहा जा रहा है कि उसे वहां की नागरिकता मिला चुकी है. एनआईए की मांग पर इंटरपोल ने हाल ही में जाकिर नाईक के खिलाफ नोटिस जारी किया था.

इस नोटिस के जवाब में उसने कहा कि भारतीय जांच एजेंसी उन्हें केवल इसलिए निशाना बना रही हैं क्योंकि वह मुस्लिम है. उन्होंने दावा किया कि उनके भाषण जिहाद को बढ़ावा देने वाले नहीं हैं. उनके भाषण केवल शांति के लिए हैं.

Loading...