भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद तिहाड़ जेल से रिहा होने के एक दिन बाद फिर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन (एनआरसी) के खिलाफ दिल्ली के जामा मस्जिद में हो रहे प्रदर्शन में शामिल हुए।

बता दें कि इससे पहले चंद्रशेखर को पुरानी दिल्ली के दरियागंज में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान हिं’सा के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था।

जिसके बाद दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को चार हफ्तों तक दिल्ली नहीं आने और चुनावों तक कोई धरना आयोजित नहीं करने की शर्त के साथ जमानत दी।

हालांकि अदालत ने यह भी कहा था कि सहारनपुर जाने से पहले आजाद जामा मस्जिद समेत दिल्ली में कही भी जाना चाहते हैं, तो पुलिस उन्हें एस्कॉर्ट करेगी। न्यायाधीश ने कहा था कि विशेष परिस्थितियों में विशेष शर्तों की जरूरत होती है।

जामा मस्जिद पहुंचे भीम आर्मी चीफ के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि शांतिपूर्ण विरोध हमारी ताकत है। सभी धर्मों के लोग जो हमारा समर्थन करते हैं, उन्हें बड़ी संख्या में मिलकर यह साबित करना चाहिए कि ये विरोध अकेले मुसलमानों के नेतृत्व में नहीं है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन