विश्व प्रसिद्ध हजरत निजामुद्दीन दरगाह के प्रमुख सज्जादा नशीनों के पाकिस्तान में लापता हो जाने के बाद उनके अपहरण की आशंका जताई जा रही है.

दरगाह के मुख्य खादिम सैयद आसिफ़ अली निज़ामी और उनके भतीजे नाज़िम निजामी लाहौर की दाता दरगाह में जियारत के लिए गए थे. उन्हें आखिरी बार लाहौर की दाता दरगाह में देखा गया. उसके बाद से ही वे लापता बताये जा रहे हैं. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ये मुद्दा पाकिस्तान के समक्ष उठाया है.

स्वराज ने कहा कि कराची हवाईअड्डे पर उतरने के बाद सैयद आसिफ निजामी और उनके भतीजे नाजिम निजामी लापता हैं. पाकिस्तान की सरकार से दोनों भारतीय नागरिकों के बारे में जानकारी मांगी गई है.

स्वराज ने ट्वीट किया, ‘‘हमने यह मुद्दा पाकिस्तान की सरकार के समक्ष उठाया और उनसे पाकिस्तान में दोनों भारतीय नागरिकों के बारे में जानकारी मांगी. कराची हवाईअड्डे पर उतरने के बाद से वह लापता हैं.’’ 80 वर्षीय सैयद आसिफ निजामी हजरत निजामुद्दीन औलिया दरगाह के सज्जादानशीन हैं.

स्वराज ने बताया, ‘‘80 वर्षीय सैयद आसिफ निजामी और उनके भतीजे नाजिम अली निजामी आठ मार्च 2017 को पाकिस्तान गए थे.’’ वह दोनों लाहौर में मशहूर दाता दरबार दरगाह गए थे जहां से उन्हें बुधवार को कराची के लिए विमान यात्रा करनी थी.

आसिफ निजामी के बड़े बेटे साजिद अली निजामी ने IANS से कहा कि मेरे पिता सैयद अली निजामी (80) और उनके भतीजे नाजिम निजामी बुधवार शाम से लाहौर और कराची एयरपोर्ट्स से लापता है. वे दोनों 6 मार्च को बाबा फरीद की दरगाह पर चद्दर चढ़ाने गए थे. 14 मार्च को लाहौर के दाता दरबार में उन्होंने चद्दर चढ़ाई. अगले दिन वे लाहौर एयरपोर्ट पर 4.30 बजे फ्लाइट लेने पहुंचे. लाहौर एयरपोर्ट पर मेरे भाई को अधिकारियों ने कागजी कार्रवाई को लेकर रोक लिया और मेरे पिता को फ्लाइट में जाने को कहा. इसके बाद से उनका मोबाइल फोन स्विच ऑफ आ रहा है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?