जेएनयु के लापता छात्र नजीब अहमद का अब तक कोई सुराग हाथ नही लगा है. सीबीआई को जांच सौपे भी सात महीने से अधिक हो गया है लेकिन वो भी खाली हाथ है. ऐसे में अब नजीब की माँ का सब्र टूटता जा रहा है.

उन्होंने दिल्ली हाई कोर्ट के समक्ष पेश होकर गुहार लगाई कि एजेंसी इस बारे में जांच नहीं कर रही है कि क्या पुलिस ने गवाहों को प्रभावित किया था. हाईकोर्ट ने उनसे कहा कि वह सीबीआई की जांच के संबंध में धैर्य रखें.

उल्लेखनीय है की नजीब 15 अक्टूबर 2016 जेएनयू के माही-मांडवी छात्रावास से लापता हो गया था. कथित तौर पर एक दिन पहले नजीब के साथ ABVP के छात्रों ने मारपीट की थी.

इस मामले की जांच पहले दिल्ली पुलिस और क्राइम ब्रांच ने की थी. नजीब की माँ फातिमा नफीस ने हाई कोर्ट में याचिका डाल मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की थी. जिसके बाद हाईकोर्ट ने 16 मई को मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी.

जांच के दौरान सीबीआई ने मामले में संदिग्ध छात्रों के फोन कॉल और संदेश के विश्लेषण के आधार पर स्थिति रिपोर्ट बनाकर उसे कोर्ट को सौंप दिया. कोर्ट ने आदेश दिया कि सीबीआई जब्त इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की फारेंसिक जांच में तेजी लाए. अदालत ने मामले को 27 फरवरी को अगली सुनवाई के लिए सूचीबद्ध कर दिया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?