najee

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय कैंपस से लापता छात्र नजीब अहमद को तलाश रही देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई ने भी हार मानते हुए आज हाईकोर्ट में क्लोज़र रिपोर्ट दायर कर दी है। बीतें दो सालों में दिल्ली पुलिस, क्राइम ब्रांच और सीबीआई नजीब को तलाश कर चुकी है।

सीबीआई ने कोर्ट को बताया कि अगर इस मामले में आगे कोई इनपुट या सूचना मिलती है तो उस मामले की भी जानकारी कोर्ट को देकर सीबीआई जांच कर सकती है। इस मामले में अब 29 नवंबर को अहम सुनवाई होगी। इस सुनवाई के दौरान क्लोजर रिपोर्ट पर संज्ञान लिया जाएगा। जांच एजेंसी ने बताया कि हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र और दिल्ली में काफी तफ्तीश की गई। इसके अलावा कई राज्यों के डीजीपी को भी इस बारे में मदद के लिए खत लिखा गया था।

वहीं दूसरी और छात्रसंघ और परिवार ने अभी भी आस नहीं छोड़ी है।  कैंपस से नजीब के लापता होने की दूसरी बरसी पर रविवार से विरोध धरना व रैली हुई। कार्यक्रम में शामिल नजीब की मां फात्मा नफीस ने कहा देश के मुखिया को एक मां की आवाज सुनाई नहीं दे रही है, जब तक मुझे नजीब नहीं मिल जाता मैं चैन से नहीं बैठूंगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सभा में नजीब की मां फात्मा नफीस ने कहा कि मैं दो साल से देश की राजधानी में भटक रही हूं। ऐसी कोई जगह नहीं बची, जहां पर वे गई नहीं। शासन, प्रशासन और जांच एजेंसियों ने हमारी मदद करने के बजाए हमें गुमराह किया। हमें ही परेशान किया जा रहा है। देश की जनता और देश के बच्चों ने छात्रों ने इस पूरे आंदोलन में हमारा भरपूर साथ दिया, पर केंद्र सरकार ने हमें सिर्फ परेशान किया। आरोपियों को शरण दी।

उन्होने कहा, जिन लोगों ने मेरे बेटे को पीटा था, उन पर कोई भी कार्रवाई करने या पूछताछ करने के बजाए हमसे ही उल्टे-सीधे सवाल कर परेशान करने की योजना बनाई गई। इसमें वे सफल भी हो गए। कहा कि मैं ऐसे हार नहीं मानूंगी। जब तक मेरा बेटा मेरे पास नहीं आ जाता तब तक मेरी लड़ाई जारी रहेगी।

Loading...