Saturday, October 23, 2021

 

 

 

टीआरपी घोटाले में अब यूपी के लखनऊ में मामला दर्ज, सीबीआई ने शुरू की जांच

- Advertisement -
- Advertisement -

फेक टीआरपी केस में अब नया मौड़ आ गया है। दरअसल, सीबीआई ने उत्तरप्रदेश पुलिस के अनुमोदन के आधार पर प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू की है। बता दें कि ऐसे ही मामले में मुंबई पुलिस भी जांच कर रही है।

एक अधिकारी ने बताया, मामला पहले लखनऊ के हजरतगंज थाने में एक विज्ञापन कंपनी के प्रवर्तक की शिकायत पर दर्ज किया गया था, जिसे उत्तरप्रदेश सरकार ने सीबीआई को सौंप दिया। उन्होंने कहा कि त्वरित कार्रवाई करते हुए सीबीआई ने अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 468, 465, 463, 420, 409, 406, 120 बी में प्राथमिकी दर्ज की है।

बता दे कि मुंबई पुलिस ने हाल में टीआरपी में हेरफेर किए जाने का एक मामला दर्ज किया था जिसके बाद बार्क ने अस्थाई रूप से रेटिंग का काम स्थगित कर दिया है। इस मामले में अबतक 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इन चैनलों से जुड़े लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा।

किसी चैनल या कार्यक्रम की टीआरपी का इस्तेमाल विज्ञापन एजेंसियां उनकी लोकप्रियता मापने में करती हैं जिससे विज्ञापन की कीमत प्रभावित होती है। भारत में ब्रॉडकास्ट ऑडिएंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) 45 हजार से अधिक घरों में एक उपकरण लगाकर प्वाइंट की गिनती करता है। इस उपकरण को ‘बार ओ मीटर’ कहा जाता है।

मुंबई पुलिस कमिश्नर ने बताया कि जांच के दौरान ऐसे घर मिले हैं, जहां टीआरपी का मीटर लगा होता था। इन घरों के लोगों को पैसे देकर दिनभर एक ही चैनल चलवाया जाता था, ताकि चैनल की टीआरपी बढ़े। उन्होंने यह भी बताया कि कुछ घर तो ऐसे पता चले हैं, जो बंद थे, उसके बावजूद अंदर टीवी चलते थे। उन्होने ये भी कहा कि  इन घर वालों को चैनल या एजेंसी की तरफ से रोजाना 500 रुपए तक दिए जाते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles