praka12

prakash ambedkar 630 630

भीमा-कोरेगांव में दलितों पर हमले को लेकर देश के संविधान निर्माता डॉ. भीम राव अंबेडकर के पौत्र प्रकाश अंबेडकर ने हिंदूवादी संगठनो को जिम्मेद्दार बताते हुए कहा कि वे देश का माहौल बिगाड़ना चाहते है. उन्होंने कहा, वह देश में माहौल खराब करके केंद्र सरकार का कंट्रोल अपने हाथ में लेना चाहते हैं.

अंबेडकर ने कहा, ‘मैंने सरकार को कुछ लोगों के नाम दिए थे जो हिंसक संगठनों से जुड़े हुए हैं. मेरे महाराष्ट्र बंद के फैसले के बाद सरकार ने उनके खिलाफ केस दर्ज कराया.’ उन्होंने कहा, ‘1 जनवरी को दलित समाज के लोग 200वें शौर्य दिवस मनाने के लिए भीमा कोरेगांव पहुंचे थे. अचानक से हिंदूवादी संगठनों से जुड़े कुछ लोग वहां आते हैं और दलितों के साथ मारपीट करते हैं. फर्क क्या है? उन्होंने दलितों के साथ मारपीट क्यों की? ये हिंदूवादी संगठन ही देश की फिजा को बिगाड़ना चाहते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने आगे कहा, लोग इसे बढ़ा-चढ़ाकर कहना मान सकते हैं लेकिन वह (हिंदूवादी संगठन) ऐसा ही करने की कोशिश कर रहें हैं. जैसे पाकिस्तान में हाफिज सईद ने वहां की सरकार पर अपना नियंत्रण बना रखा है, ठीक वैसे ही ये लोग भारत सरकार पर नियंत्रण करना चाहते हैं. उनका सिर्फ एक मकसद है, देश के माहौल को खराब करना.’

बंद वापस बुलाने के मामले पर दलित नेता ने कहा कि अगर वह बंद वापस नहीं बुलाते तो राज्य में हालात और खराब हो सकते थे. प्रकाश अंबेडकर ने कहा, ‘मेरे हाथ और मेरे वश में जो कुछ भी था, उससे मैंने हालात को नियंत्रित करने की पूरी कोशिश की.

प्रकाश अंबेडकर ने महाराष्ट्र सरकार और मुख्यमंत्री फडणवीस से अपील की है कि भीमा कोरेगांव हिंसा के मुख्य आरोपी संभाजी भिड़े और मिलिंद एकबोटे को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए. इसी के साथ उन्होंने सवाल उठाया कि अगर याकूब मेमन के खिलाफ धारा 302 के तहत केस दर्ज किया जा सकता है तो, उसी सेक्शन के तहत भिड़े और एकबोटे के खिलाफ केस दर्ज क्यों नहीं हो सकता.

उन्होंने कहा, मैं दलित समुदाय पर हमला करने के लिए लोगों को उकसाने वाले भिड़े और एकबोटे की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करता हूं.’

Loading...