केरल के कोझिकोड में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय परिषद में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुसलमानों को वोट की मंडी नहीं समझा जाना चाहिए.

उन्होंने दीनदयाल उपाध्याय के उस कथन का जिक्र किया जिसमें उन्होंने मुसलमानों के करीब आने और उनकी तरक्की का मंत्र दिया था. पीएम मोदी ने उपाध्याय के कथन को दोहराते हुए कहा, “न मुसलमानों को पुरस्कृत करें, न तिरस्कृत करें. बल्कि उनका परिष्कार करें. मुसलमान कोई वोट की मंडी का माल नहीं और घृणा की वस्तु नहीं है. उसे अपना समझे.”

उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी कभी अपने सिद्धांतों से नहीं डिगी है. हम राजनीति में कुछ पाने के लिए नहीं बल्कि सेवा के मकसद से आए हैं. हमारी विकास की यात्रा में कोई पीछे नहीं रह सकता और समाज का आखिरी व्‍यक्ति भी हमारे लिए अछूता नहीं.

मोदी ने एक बार फिर कहा कि देश की समस्याओं का समाधान सिर्फ विकास को बताते हुए कहा कि समाज के निचले वर्ग का विकास करना जरूरी है और उनकी इस विकास यात्र में कोई नहीं छूटेगा. उन्होंने कहा, “हिंदुस्तान के सभी क्षेत्रों में सभी भू-भागों में और सभी लोगों के लिए विकास की समान संभावनाओं को हमें तलाशते रहना चाहिए.”

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano