Tuesday, January 25, 2022

अजमेर: दरगाह के सामने सीएए के खिलाफ प्रदर्शन, दरगाह दीवान का पुतला फूंका

- Advertisement -

नागिरकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ अजमेर में विश्व प्रसिद्ध हजरत ख्वाजा मोइनउद्दीन चिश्ती (रह) की दरगाह के सामने  खादिमों सहित मुस्लिम समाज के लोगों ने शुक्रवार को विरोध मार्च निकाला और इस विवादास्पद कानून को वापस लेने की मांग की।

इस दौरान दरगाह दीवान जैनुल आबेदीन अली खान का पुतला भी जलाया गया। दरअसल, सीएए का समर्थन करने और मुसलमानों को गुमराह करने को लेकर मुस्लिम समुदाय दरगाह दीवान से बुरी तरह से नाराज है।

दरगाह के खादिम सरवर चिश्ती ने कहा, केंद्र को इस अधिनियम को रद्द करना चाहिए, यह संविधान की प्रस्तावना पर हमला है। साथ ही सरकार को यह भी कहना चाहिए कि एनआरसी (राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर) लागू नहीं किया जाएगा।

दरगाह से शुरू हुई प्रदर्शन रैली भीड़भाड़ वाले दरगाह बाजार से होते हुए कलेक्ट्रेट पर समाप्त हुई। प्रदर्शनकारियो ने ‘साम्प्रदायिक सोहार्द्र जिंदा रहे’ के नारे लगाये गये। सरवर चिश्ती ने आरोप लगाया कि दरगाह दीवान ने यह कहते हुए मुसलमानों को गुमराह किया कि सीएए उनके खिलाफ नहीं है, इसलिए हमने विरोध स्वरूप उनका पुतला जलाया है।

उल्लेखनीय है कि दरगाह दीवान ने पिछले सप्ताह कहा था कि सीएए कानून मुस्लिमों के खिलाफ नहीं है और उन्हें इससे डरने की जरूरत नहीं है। इससे उनकी नागरिकता को कोई खतरा नहीं है। उन्होंने केन्द्र सरकार से इस कानून संबंधी शंकाओं और भय को दूर करने के बाद ही इसे लागू करने का आग्रह किया था।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles