419647-azam-khan-700

बुलंदशहर गैंगरेप मामले में दिए गये बयान को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के मंत्री आजम खान का बिना शर्त का माफीनामा स्वीकार कर लिया हैं. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले से भी आजम खान को मुक्त कर दिया हालांकि दूसरे मामले की सुनवाई चलती रहेगी.

आजम ने माफीनामे में कहा है कि वह अपने बयानों के लिए गंभीरता से और दिल से खेद व्यक्त करते हैं. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने आजम खान के हलफनामे को नामंजूर कर दिया था. याद रहें कि आजम खान ने इस घटना को कथित रूप से राजनीतिक षड्यंत्र बताया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आजम खान के इस बयान के बाद गैंगरेप पीड़ित के पिता की अपील पर संज्ञान लेते हुए आजम खान को नोटिस जारी कहा था कि क्या प्रशासन या सरकार के अहम ओहदे पर बैठा व्यक्ति यह कह सकता है कि इस तरह की घटनाएं राजनीतिक साजिश के तहत होती हैं, जबकि घटना से व्यक्ति का कोई लेना-देना न हो.

पहली सुनवाई में आजम खान ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि उन्होंने यह बयान नहीं दिया था कि गैंगरेप के पीछे राजनीतिक साजिश है. उनके बयानों को तोड़मरोड़कर पेश किया गया वह इसका रिकॉर्ड भी दिखाने को तैयार हैं.

सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा इस तरह के बयान से कोई भी व्यक्ति मानहानि का केस दाखिल कर सकता है, लेकिन रेप केस में पीड़िता जनहित के तहत भी कोर्ट आ सकती है. ये भड़काऊ भाषण का मामला नहीं है, ये रेप पीड़िता के सम्मान और लंबित जांच पर सवाल है.

Loading...