‘बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश’ के हथियारबंद जवान घुसे भारत में, फिर ग्रामीणों को…..

11:04 am Published by:-Hindi News
Symbolic

बांग्लादेश के सशस्त्र सीमा गार्ड कर्मियों ने मेघालय में घुस ग्रामीणों को ध’मकाया है।हथियारबंद जवानों ने मुक्तापुर गांव के लोगों को एक रास्ते के निर्माण को रोकने के लिए ध’मकाया।

बीएसएफ के प्रवक्ता ने कहा कि इस मामले की जांच एक कमांडेंट स्तर के अधिकारी द्वारा की जा रही है। तीन सशस्त्र सीमा गार्ड बांग्लादेश (BGB) के जवान शनिवार को साइट पर आए और काम रोकने का आदेश दिया, यह कहते हुए कि यह स्थान अंतरराष्ट्रीय सीमा से 150 गज की दूरी पर है और निर्माण नियमों का उल्लंघन करता है। यह आरोप बी बुआम, मुक्तापुर के ग्राम सचिव और ठेकेदार ने लगाया।

बुआम ने कहा कि बीजीबी के लोगों ने उनके जाने के बाद छोड़ दिया कि सड़क काली नहीं होगी और 2011 में दोनों देशों द्वारा हस्ताक्षरित एक प्रोटोकॉल के अनुसार इस तरह की “अस्थायी” सड़क के निर्माण की अनुमति है और बाद में 2015 में इसमें संशोधन किया गया।

Symbolic

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक स्थानीय नागरिक ने गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि गांव के अंदर बन रही एक सड़क को लेकर बीजीबी जवान कैसे भारतीय क्षेत्र में घुसकर उन्हें धमका सकते हैं? उसने यह भी आरोप लगाया कि घटना के वक्त बीएसएफ के जवान मूकदर्शक बने रहे।

बीएसएफ के इंस्पेक्टर जनरल कुलदीप सैनी ने इस मामले में पूरी रिपोर्ट मंगवाई है। उन्होंने कहा कि सीमा पर हालात नियंत्रण में हैं। आईजी सैनी ने बीजीबी जवानों के भारतीय गांव में घुसने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि मेघालय में बांग्लादेश से सटी सीमा पर सभी बॉर्डर आउटपोस्ट को अलर्ट कर दिया गया है और बीजीबी की घुसपैठ की कोई संभावना नहीं है।

बता दें कि मुक्तापुर पायरदिवाह गांव के पूर्व में 20 किमी की दूरी पर स्थित है। यही वो गांव है, जिस पर 2001 में बांग्लादेशी सुरक्षाबलों ने कुछ दिनों के लिए कब्जा कर लिया था। उनका कहना था कि यह गांव बांग्लादेश का हिस्सा है। हालांकि, भारतीय सुरक्षाबलों की कार्रवाई के बाद उन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर होना पड़ा था।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें