जयपुर | शुक्रवार को जयपुर में संजय लीला भंसाली के ऊपर हुए हमले के बाद बॉलीवुड से बेहद तीखी प्रतिक्रयाए देखने को मिल रही है. बॉलीवुड से जुड़े लगभग हर व्यक्ति ने भंसाली के पक्ष में आते हुए दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है. उधर राजस्थान के गृह मंत्री ने इस मामले में विवादित बयान दिया है. वही राजपूत करणी सेना ने इस हमले का बचाव करते हुए कहा की हमारे नाक के नीचे, हमारे इतिहास के साथ खिलवाड़ बर्दास्त नही की जायेगी.

शुक्रवार को जयपुर में ‘पद्मावती’ फिल्म की शूटिंग के दौरान राजपूत करणी सेना ने हमला बोल , सेट पर तोड़फोड़ करनी शुरू कर दी. इसके अलाव उन्होंने क्रू मेम्बर के साथ अभद्रता करते हुए , निर्माता- निर्देशक संजय लीला भंसाली को भी थप्पड़ मारे. करणी सेना का आरोप था की भंसाली रानी पद्मावती के किरदार को गलत ढंग से पेश कर रहे है. वो इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रहे है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

भंसाली पर हुए हमले के बाद पूरा बॉलीवुड एकजुट दिखाई दे रहा है. फरहान अख्तर ने ट्वीट कर अपना गुस्सा निकालते हुए कहा की अगर अब भी हम सब इस गुंडागर्दी के खिलाफ एकजुट नही हुए तो भविष्य में यह और बुरा होने वाला है. निर्माता-निर्देशक करन जोहर लिखते है की मैंने जब से भंसाली के बारे में सुना, मैं उससे बाहर ही नही निकल पा रहा हूँ, खुद को बहुत असहाय महसूस कर रहा हूँ , क्या यही हमारा भविष्य है?

फरहान अख्तर ने जहाँ दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की वही अभिनेत्री अनुष्का शर्मा ने इसे शर्मनाक करार दिया. उधर राजपुर करणी सेना के संस्थापक लोकेन्द्र सिंह कालवी ने कहा की क्या भंसाली , जर्मनी जाकर हिटलर पर फिल्म बनाने की हिम्मत कर सकते है. उन्होंने पहले भी जोधा अकबर फिल्म में इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश किया, इस बार भी वो ऐसा ही कर रहे है. हम अपनी नाक के नीचे और राजपूतो की धरती पर ऐसा नही होने देंगे.

करणी सेना का यह भी आरोप है की भंसाली पद्मावती बनी दीपिका पादुकोण और अलाउदीन खिलजी बने रणवीर सिंह के बीच अन्तरंग द्रश्य फिल्म रहे थे. जबकि पद्मावती अपनी वीरता के लिए जानी जाती थी. जब खिलजी ने चित्तोडगढ पर हमला किया तो उन्होंने अपनी इज्जत बचाने के लिए जौहर (खुदखुशी) कर ली थी. उधर राजस्थान के गृह मंत्री जीसी कटारिया ने कहा की ऐसे मामले में गुस्सा आना स्वाभाविक है लेकिन कानून को हाथ में नही लिया जाना चाहिए.

Loading...