Thursday, August 5, 2021

 

 

 

लॉकडाउन के बीच मदरसे के मुफ़्ती की हत्या कर अधजला शव यमुना में फेंका

- Advertisement -
- Advertisement -

शामली. कोरोना के प्रसार को तबलीगी जमात से जोड़ने पर एक के बाद एक मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा के मामले सामने आ रहे है। इसी बीच शामली में एक सप्ताह पूर्व संदिग्ध हालात में लापता हुए मदरसा प्रबंधक का शव बुधवार देर रात यमुना नदी से बरामद होने से सनसनी फ़ेल गई।

पत्रिका की रिपोर्ट के अनुसार, शामली जनपद के कैराना में 16 अप्रैल को बाजार में सामान की खरीदारी करने गए मदरसे के प्रबंधक बाइक सहित लापता थे। इस दौरान उन्हें काफी तलाश गया, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। इसके बाद मुफ्ती के परिजनों ने कैराना कोतवाली में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए मुफ्ती के मोबाइल फोन को सर्विलांस पर लगाकर उसकी तलाश कर रही थी, लेकिन उसके दोनों मोबाइल नंबर बंद आ रहे थे। इसकी वजह से उनका कोई सुराग नहीं लग सका।

इस घटना को लेकर के जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना ताहिर हसन ने भी एसपी विनीत जयसवाल से मिलकर मुफ्ती को जल्द बरामद करने की गुहार लगाई थी। इसके बाद एसपी ने जल्द ही कार्रवाई करते हुए घटना के खुलासे का आश्वासन दिया था। लेकिन 6 दिन बीत जाने के बाद भी कैरैना पुलिस मुक्ति को नहीं बरामद कर पाई। देर रात मुक्ति का अधजला शव कैराना यमुना नदी से बरामद किया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

हत्यारों ने मदरसा प्रबंधक के शव को हत्या करने के बाद जलाकर बोरे में भर दिया था। घटना के सम्बन्ध में पुलिस ने तीन लोगो को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि इन्ही आरोपियों से पूछताछ के आधार पर ही पुलिस मदरसा प्रबंधक के शव तक पहुँच पाई है।

बताया जा रहा है कि मुफ्ती सुफियान ने वर्ष 2017 से मदरसे का संचालन शुरू किया था। सीओ कैराना प्रदीप सिंह का कहना है कि लापता मदरसा प्रबंधक का शव यमुना नदी से बरामद हुआ है। शव को जलाकर अवशेष बोरे में भरे गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles