चंडीगढ़ | खादी ग्रामोधोग के वार्षिक कैलेंडर में महात्मा गाँधी की जगह प्रधानमंत्री मोदी की फोटो लगने से विवाद पैदा हो गया है. विपक्ष से लेकर खादी ग्रामोधोग के कर्मचारी भी इसके लिए सरकार की आलोचना कर रहे है. हालाँकि सरकार सफाई दे चुकी है की यह पहली बार नही हुआ है जब कैलेंडर से गाँधी जी की तस्वीर हटाई गयी हो. सरकार ने कहा की उनका खादी ग्रामोधोग से गाँधी जी को अलग करने का कोई इरादा नही है.

इस विवाद से अभी मोदी सरकार उभरी भी नही थी की हरियाणा के बीजेपी मंत्री ने राष्ट्रपिता के ऊपर ऐसी टिप्पणी कर दी जिससे सरकार की किरकिरी होना तय है. हरियाणा में खट्टर सरकार के मंत्री अनिल विज ने खादी ग्रामोधोग से गाँधी की तस्वीर को हटाने को जायज ठहराते हुए कहा गाँधी की वजह से खादी बुरे दौर से गुजर रही थी जिसको मोदी जी ने बुरे दौर से उभारा है.

अनिल विज यही नही रुके उन्होंने आगे कहा की प्रधानमंत्री मोदी , गाँधी से बड़े ब्रांड है. गाँधी का नाम जुड़ने से खादी की दुर्गति हुई थी. मोदी जी ने खादी को बुरे दौर से उभारते हुए उसकी बिक्री में 14 फीसदी का इजाफा कराया, इसलिए खादी ग्रामोधोग के कैलेंडर से गाँधी की तस्वीर हटाना जायज है. अनिल विज ने एक कदम और आगे बढ़ते हुए कहा की अब गाँधी जी नोटों से भी हटेंगे.

अनिल विज ने नोटों के मूल्य में आ रही गिरावट के लिए भी गाँधी जी को दोषी ठहराया. उन्होंने कहा की गाँधी का नाम और तस्वीर नोटों पर है जिसकी वजह से नोटों की वैल्यू गिर रही है. बहुत जल्द नोटों से भी गाँधी को हटा दिया जायेगा. जब उनसे पुछा गया की अगर नोटों से गाँधी जी की तस्वीर हटानी थी तो फिर नए नोटों पर उनकी तस्वीर क्यों लगायी? इस पर विज ने कहा की धीरे धीरे वो भी हट जाएगा.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें