जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रमुख अरशद मदनी ने संघ परिवार और सपा पर हमला करते हुए कहा कि अगर बीजेपी सहित संघ परिवार और समाजवादी पार्टी ने मुस्लिमों को लेकर अपना नजरिया नहीं बदला तो देश की मजबूती के लिए तौकिर रजा खान और असदुद्दीन ओवैसी के साथ एक मंच पर साथ आ सकते हैं साथ ही जमीयत उलेमा-ए-हिंद  तौकिर रजा खान और ओवैसी के साथ चलने और मिलकर काम करने को तैयार है.

मदनी ने कहा, ‘‘हमारी उनसे कोई सियासी लड़ाई नहीं है, कोई सत्ता की लड़ाई नहीं है. हम प्यार-मोहब्बत को बढ़ावा देना चाहते हैं हम बात करेंगे और आगे बढ़ेंगे। ऐसा होना तो बड़ी अच्छी बात है. उन्होंने आगे कहा कि सरकार और देश के मुस्लिम संगठनों के बीच संपर्क और बातचीत की पहल पहले सरकार को करनी चाहिए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मदनी ने हिंदू-मुस्लिम एकता पर मदरसों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि  भाई-चारा बढ़ाने में मदरसे अहम भूमिका निभा सकते हैं. उन्होंने कहा, मदरसों का नेटवर्क गांव-गांव तक फैला है. अब हम मदरसों के सुपुर्द एक और काम सौंपना चाहते हैं. यह काम भाई-चारे के पैगाम का है.

Loading...