बिलकिस बानो मुआवजे से दंगों की शिकार महिलाओं और बच्चों की करेगी मदद

7:10 pm Published by:-Hindi News

सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार को निर्देश दिए है कि 2002 गुजरात दंगों में दुष्कर्म पीड़ित बिलकिस बानो को 50 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाए। अदालत ने मंगलवार को गुजरात सरकार से कहा कि वह नियमों के मुताबिक बिलकिस बानो को एक सरकारी नौकरी और आवास भी मुहैया कराए।

गौरतलब है क‍ि गुजरात में अहमदाबाद के निकट रणधीकपुर गांव में एक भीड़ ने तीन मार्च 2002 को बिलकिस बानों के परिवार पर हिंदुत्व दंगाइयों ने हमला किया था। इस दौरान पांच महीने की बिलकिस बानो के साथ 17 लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया। बिलकिस उस समय 21 साल की थीं और गर्भवती थीं। दंगाइयों ने 14 लोगों को मार दिया था जिसमें उनकी 2 साल की बच्ची समेत परिवार के कई लोग शामिल थे। इनमें से सिर्फ 7 के शव मिले थे।

बिलकिस बानो ने बुधवार को कहा कि उन्हे जो 50 लाख रुपये का मुआवजा मिला है उसका एक हिस्सा वह साम्प्रदायिक हिंसा की शिकार महिलाओं के न्याय पाने और उनके बच्चों की पढाई के लिए देगीं। उन्होने अदालत का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि उसे न्यायपालिका पर शुरु से विश्वास था।

उन्होने कहा, न्याय पाने में 17 साल का समय लगा है लेकिन उन्होंने अपने जमीर, संविधान और न्यायपालिका पर भरोसा रखा है। उन्होंने केन्द्रीय जांच ब्यूरो का भी शुक्रिया किया, जिसने दोबारा मामले की जांच की। उन्होंने कहा कि एक औरत के रुप में वह दोबारा अपना जीवन गरिमा के साथ जीना चाहती है और मुआवजे की राशि से वह ऐसा कर पाएगी तथा अपने बच्चे को अच्छी शिक्षा दिला पाएगी।

बिलकिस की वकील शोभा गुप्ता ने बताया, ‘2003 में उन्होंने एक बेटी को जन्म दिया जो बड़े होकर वकील बनना चाहती है। मुझे बहुत खुशी होगी अगर वह अपनी लॉ डिग्री पूरी करने के बाद एक ऐडवोकेट के रूप में मेरा ऑफिस चुनती है।’

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें