Monday, July 26, 2021

 

 

 

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री होंगे भूपेश बघेल, सोमवार को लेंगे शाम 5 बजे शपथ

- Advertisement -
- Advertisement -

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में कांग्रेस की प्रचंड जीत के बाद रविवार को सीएम के नाम का सस्पेंस भी खत्म हो गया। दिल्ली से आए पर्यवेक्षकों ने विधायक दल की बैठक में भूपेश बघेल के नाम का ऐलान किया।

भूपेश बघेल बतौर सीएम सोमवार शाम करीब पांच बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। बघेल को विधायक दल का भी नेता चुना गया है। मुख्यमंत्री की रेस में बघेल के अलावा टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू और चरण दास महंत थे। रविवार दोपहर विधायक दल की बैठक में बघेल के नाम पर मुहर लगाई गई।

कौन हैं भूपेश बघेल:

छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष है। भूपेश बघेल का जन्म 23 अगस्त 1961 को छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के पाटन तहसील में हुआ है। कुर्मियों में अच्छा जनाधार माना जाता है। 1985 से कांग्रेस से जुड़कर राजनीति कर रहे हैं। पहली बार 1993 में विधायक बने थे। मध्य प्रदेश की दिग्विजय सिंह सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं। वर्ष 2000 में जोगी सरकार में भी कैबिनेट मंत्री रहे। बघेल की दावेदारी इसलिए भी मजबूत बताई जा रही, क्योंकि उन्होंने इस बार विधानसभा चुनाव में संगठन में गुटबाजी को काफी कम करने में अहम भूमिका निभाई और ये ओबीसी जाति से आते हैं। राज्य का एक धड़ा उन्हें सीएम के रूप में देखना चाहता है। हालांकि पिछले साल बीजेपी सरकार के एक मंत्री की कथित सेक्स सीडी सामने आई थी। इस मामले में कथित कनेक्शन होने के आरोप में उनकी गिरफ्तारी भी हो चुकी है।

congres

नाम का ऐलान होने के बाद बघेल ने मीडिया से कहा-  झीरम घाटी कांड आपराधिक साजिश थी। इसकी जांच के लिए समिति बनाई जाएगी। राज्यपाल से मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि शपथ ग्रहण समारोह में राहुल गांधी और अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ ही कई राष्ट्रीय नेताओं के पहुंचने की उम्मीद है। बघेल ने यह भी कहा कि पहली कैबिनेट में किसानों की कर्जमाफी होगी। बिजली का बिल आधा करने पर फैसला होगा।

बघेल ने कहा कि राज्य में किसान, नौजवान, महिलाएं, युवा और छोटे व्यापारियों पर फोकस रहेगा। उन्होंने कहा कि राहुल जी ने किसानों से कर्जमाफी का जो वादा किया है वह भी सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा- नक्सलवाद की समस्या बेहद गंभीर है। कोई भी इसका तत्काल निदान नहीं कर सकता। उनकी पकड़ बेहद मजबूत है। नक्सल प्रभावित इलाकों में अगर लोगों का सहयोग मिले तो हम उन्हें खत्म करने की कोशिश में कामयाब हो सकता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles