बिहार के घोड़ासन हुए रेल हादसे में पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी ISI की भूमिका सामने आई हैं. सबसे ख़ास बात ये हैं कि इस हादसे के लिए जिस शख्स ने मदद की हैं वो भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ा हुआ हैं.

आईएसआई के इशारे पर काम करने के लिए अब तक भोजपुरी फिल्मों से जुड़े तीन लोग पकड़े जा चुके हैं. एनआईए के मुताबिक भोजपुरी फिल्मों का अभिनेता मुकेश यादव भी आईएसआई के साथ इस खौफनाक साजिश में शामिल है. एनआईए ने दावा किया है कि उसे फिल्‍म बनाने के लिए पैसों की जरूरत थी इसलिए उसने आईएसआई के इशारे पर काम करना शुरु कर दिया.

इंडिया टुडे में छपी खबर के मुताबिक एनआईए के हाथ आए शख्‍स का नाम मुकेश यादव है. मुकेश भोजपुरी फिल्‍मों का अभिनेता भी है और निर्माता भी. उसने अपने फिल्‍मी सपनों को पूरा करने के लिए घोड़ासन हादसे के खौफनाक साजिश में आईएसआई का साथ दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एनआईए के मुताबिक भारत के पूर्वी इलाकों और नेपाल में अपने फिल्मी प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए इन लोगों ने भयानक ट्रेन हादसों को अंजाम देने में आईएसआई की मदद की. बीते साल एक अक्टूबर को बिहार के घोड़ासन में रेलवे ट्रेक के पास से एक इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) बरामद किया गया था. जिसके तार क्षेत्रीय और भोजपुरी फिल्म उद्योग में काम करने वाले लोगों से जुड़े थे.

याद रहें कि इस मामलें में पहले ही आईएसआई एजेंट बृज किशोर गिरि को गिरफ्तार किया गया, जो अभिनेता होने के साथ-साथ नेपाल के बीरगिरी इलाके में मौजूद बिग बॉलीवुड स्टूडियो का मालिक है. इसके अलावा बिहार के मोतिहारी शहर में ऑर्केस्ट्रा वाले गजेंद्र शर्मा को पकड़ा गया, जो भागा में स्थित दंगल स्टूडियो का मालिक है.

उधर, भोपाल आईएसआई रैकेट मामले में एटीएस ने मुख्य आरोपी सतना निवासी बलराम सिंह के साथी रज्जन यादव को सतना जेल से रिमांड पर लिया है. बलराम और रज्जन के बीच पैसों का लेन देन होता था. अब तक इस मामले में ग्यारह लोग एटीएस ने गिरफ्तार किये हैं. रज्जन इस मामले में बारहवां आरोपी है.

Loading...