नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राजधानी दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदास का एक मंदिर गिराए जाने के खिलाफ दलितों के हिंसक प्रदर्शन के चलते अबतक 91 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इसमें भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर आजाद उर्फ रावण भी शामिल हैं.  इन लोगों को अब 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

बता दें कि तुगलकाबाद हिंसा के दौरान बुधवार रात 15 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गए थे और दर्जनों गाड़ियों में तोड़-फोड़ की गई थी. पुलिस ने गिरफ्तार सभी 91 आरोपियों पर दंगा फैलाना, सरकारी और निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का मामला दर्ज किया है.

पिछले दिनों डीडीए ने अपनी जमीन पर बने रविदास मंदिर को उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद तोड़ दिया था. इसके खिलाफ दिल्ली, यूपी, हरियाणा और पंजाब से आए दलितों ने प्रदर्शन किया. ये प्रदर्शन ऐसे समय में किया गया जब सुप्रीम कोर्ट ने इसे राजनीतिक रंग न देने की हिदायत दी थी.

19 अगस्त, 2019 को सुप्रीम कोर्ट के जज अरुण मिश्रा और एमआर शाह की पीठ ने पंजाब, हरियाणा और दिल्ली की सरकारों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था कि इस मुद्दे पर राजनीतिक रूप से या प्रदर्शनों के दौरान कानून व्यवस्था संबंधी कोई स्थिति उत्पन्न नहीं होनी चाहिए.

पीठ ने कहा था कि हर चीज राजनीतिक नहीं हो सकती. धरती पर किसी के भी द्वारा हमारे आदेश को राजनीतिक रंग नहीं दिया जा सकता.

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन