मुंबई/औरंगाबाद: कादियानियों पर अपनी एक स्टोरी में पैग़म्बर ए इस्लाम हजरत मुहम्मद (सल्ल) की फर्जी तस्वीर के प्रकाशन पर बीबीसी की हिंदी न्यूज़ सेवा ने माफी मांग ली है। उल्लेखनीय है कि इस सबंध में रज़ा एकेडमी की और से मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह से भी शिकायत की गई थी।

रज़ा एकेडमी प्रमुख अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी ने बताया कि बीबीसी के इस कृत्य से देश-विदेश के मुसलमानों में सख्त नाराजगी और गुस्सा था। जिसके परिणाम में कोई बड़ी गंभीर घटना भी हो सकती थी। इस संबंध में रज़ा एकेडमी ने आगे आकर मुस्लिमों की नाराजगी को मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह के समक्ष शिकायत के रूप में सामने रखा। साथ ही बीबीसी को भी ईमेल के माध्यम से अवगत कराया गया और मांग की गई कि वह तत्काल कथित तस्वीर को वापस ले और बिना शर्त माफी मांगे।

उन्होंने बताया कि बीबीसी की और से प्राप्त जवाबी ईमेल में कथित तस्वीर को लेकर मुस्लिमों से फौरी तौर पर माफी मांगी गई है। साथ ही तस्वीर को अपनी वेबसाइट और सोशल मीडिया से भी हटा लिया गया। इतना ही नही कादियानियों पर की गई स्टोरी को भी वापस ले लिया गया।

सईद नूरी साहब ने बताया कि रज़ा एकेडमी द्वारा गठित तहफ्फुज ए नामुस ए रिसालत बोर्ड की इस कामयाबी पर मुस्लिमों में खुशी का माहौल है। महाराष्ट्र सहित देश के कई हिस्सों में रज़ा एकेडमी के कार्यकर्ताओं का स्वागत कर शुक्रिया अदा किया गया और मुबारकबाद पेश की गई।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano