sbi

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने देश भर के बैंकों में लगी लाइनों को ख़त्म करने के लिए 10 लाख करोड़ रु की जरुरत बताई हैं. साथ ही इसके लिए 500 रु के नोटों की कमी को प्रमुख वजह बताया हैं.

एसबीआई के प्रबंध निदेशक रजनीश कुमार ने कहा, “हमारे अध्ययन के मुताबिक, दो महीने की खपत राशि यानी बाजार में 10 लाख करोड़ रुपये की तरलता बढ़ाने की जरूरत है. इसके बाद कतारें अपने आप गायब हो जाएंगी.”  उन्होंने आगे कहा कि “इनमें से 3-4 लाख करोड़ रुपये डिजिटल या ऑनलाइन माध्यम से जारी किया जाना चाहिए.”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीँ एसबीआई के अधिकारी ने कहा कि 500 रुपये के नोटों की कमी के कारण करेंसी के तेजी से चलन में विशेष परेशानी आ रही है. उन्होंने कहा, “100 रुपये तथा 2,000 रुपये के नोट के बीच में कोई नोट नहीं है, जिसके कारण परेशानी आ रही है. एक बार जब 500 रुपये के नोट चलन में आ जाएंगे, हालत में सुधार होगा.”

उन्होंने कहा कि 500 रुपये के नोट उपलब्ध ही नहीं हैं. कुमार ने कहा कि एसबीआई के 49,000 एटीएम में से 43,000 को नए नोटों के हिसाब से समायोजित कर लिया गया है. उन्होंने कहा, “एसबीआई के एटीएम से प्रतिदिन 17,000 से 19,000 करोड़ रुपये निकल रहे हैं.”

Loading...