सीमा पर होने वाली हत्याओं पर अंकुश लगाने के लिए बांग्लादेश-भारत हुआ सहमत

बांग्लादेश और भारत ने शनिवार को हत्याओं और अपराधों को रोकने के लिए संयुक्त सीमा पर गश्त शुरू करने पर सहमति व्यक्त की।

“दोनों पक्षों ने संयुक्त सीमा पर गश्त, जन जागरूकता कार्यक्रमों और आवश्यक सामाजिक-आर्थिक विकास गतिविधियों को दोनों देशों के निहत्थे नागरिकों पर हत्याओं, चोटों और हमलों की घटनाओं को कम करने के उद्देश्य से विस्तारित करने पर सहमति व्यक्त की है।”

इस सबंध में चार दिनों के सम्मेलन के बाद बांग्लादेश की राजधानी ढाका में दोनों देशों के सीमा बलों ने भाग लेते हुए एक संयुक्त कार्यक्रम जारी किया।

जुलाई में पहले की एक रिपोर्ट में बांग्लादेश स्थित अधिकार प्रहरी ने कहा कि इस साल की पहली छमाही में भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) द्वारा कम से कम 25 बांग्लादेशी नागरिकों को मार दिया गया। दोनों पक्षों ने अंतरराष्ट्रीय कानून के बारे में सीमा क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों को शिक्षित करने पर भी सहमति व्यक्त की।

वे तस्करों और अन्य अपराधियों की डिजिटल तस्वीरों का आदान-प्रदान करने के लिए भी सहमत हुए। उन्होंने सीमाओं और सामान्य नदियों पर कांटेदार तार की बाड़ के प्रबंधन पर भी चर्चा की।

इस सम्मेलन को पर्यवेक्षकों द्वारा एक विवादास्पद नागरिकता रजिस्टर और कानून के कारण तनावों से मुक्त करने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है, जो भारत में बसे हजारों जातीय बंगालियों को बांग्लादेश भेज सकता है।

विज्ञापन