अयोध्या में जब राम मंदिर के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन के बाद शिलान्यास कर रहे थे। दूसरी और असम के सोनितपुर जिले में बजरंग दल के कार्यकर्ता मुस्लिमों को बंधक बनाकर हाथापाई कर रहे थे।

जनसत्ता की रिपोर्ट के अनुसार, बजरंग के सदस्य ने शिलान्यास के दौरान बाइक से जुलुस निकाला था। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि विवाद तब शुरू हुआ जब बजरंग दल वालों ने एक स्थानीय मंदिर के पास बाइकों से जुलूस निकाला। इस दौरान दोनों पक्षों द्वारा पथराव किया गया और पांच मुस्लिमों को जबरन बंधक बनाकर एक कमरे में बंद कर दिया गया।

मामले में सोनितपुर के डीसी मनवेंद्र प्रताप सिंह ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि थेलमाड़ा पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आने वाले कुछ क्षेत्रों को दो-तीन दिनों के लिए कर्फ्यू में रखा जाएगा। इसी बीच एडीजीपी (कानून व्यवस्था) जीपी सिंह द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि हालात अब काबू में और शांतिपूर्ण हैं। क्षेत्र में पर्याप्त सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है।

बता दें कि शिलान्यास के अवसर पर पीएम मोदी ने कहा कि ये मंदिर आधुनिकता का प्रतीक बनेगा। ये मंदिर हमारी राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा, करोड़ों लोगों की सामूहिक संकल्प शक्ति का भी प्रतीक बनेगा।

उन्होने कहा, भगवान राम दुनिया के सबसे बड़े मुस्लिम देश इंडोनेशिया सहित दुनिया के विभिन्न देशों में आज भी पूजनीय हैं। श्रीलंका में श्रीराम की कथा जानकी हरण के नाम से सुनाई जाती है। ऐसे कई देश हैं जहां की आत्मा औरअतीत में राम किसी न किसी रूप में रचे बसे हैं।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन