सीमा पर तैनात बीएसएफ जवानों को मिलने वाले खराब खाने की शिकायत करने के बाद चर्चा में आए तेज बहादुर यादव को गायब कर दिया गया हैं. बहादुर यादव का परिवार आरोप हैं कि उन्हें के बारें में कोई जानकारी नहीं हैं. अब वे बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर करने की तैयारी में है.

बीएसएफ जवान तेज बहादुर की पत्नी तेज बहादुर की पत्नी के भाई विजय ने कहा कि परिवार उनसे संपर्क करने की कोशिश कर रहा, परिवार ने बीएसएफ को दो पत्र भी लिख दिए, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. जय ने बताया, ‘यादव ने आखिरी बार अपनी पत्नी से बात की थी और बताया था कि बीएसएफ अधिकारी उसे अज्ञात जगह पर ले जा रहे हैं. इससे ज्यादा वह बोल नहीं पाया. हमने डीआईजी को दो पत्र लिखे हैं, लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं मिला.’

विजय ने आगे कहा कि अगर तेजबहादुर किसी दूसरे देश के होते तो उनका वीआरएस रद्द करके उनके खिलाफ जांच की जा सकती थी. दरअसल तेजबहादुर का वीआरएस भी रद्द कर दिया गया हैं. उन्होंने कहा कि हमारा परिवार उनको लेकर बेहद चिंतित है. यादव की पत्नी का दावा है कि उनके पति ने उन्हें फोन पर कहा था कि उन्हें डराया और शोषित किया जा रहा है, और उन्हें नजरबंद किया गया है

मवार को यादव की पत्नी शर्मिला और उनके भाई रनवीर सिंह अर्धसैनिक बल के महानिदेशक केके शर्मा से सेना के मुख्यालय में मुलाक़ात भी की. अधिकारी कहते हैं कि शर्मा ने परिवार को निष्पक्ष जांच का भरोसा दिलाया है, वहीं विजय कहते हैं कि शर्मा का जवाब ज्यादा सकारात्मक नहीं था


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें