iq

बाबरी मस्जिद विवाद के मुद्दई इकबाल अंसारी को एक धम’की भरा पत्र मिला है। ये पत्र विश्व हिंदू परिषद का गोरक्षा प्रमुख ने भेजा है। जिसमे धमकी देते हुए कहा गया, 1 नवंबर तक अपने समस्त विवादित स्थानों को मुक्त कर दीजिए ताकि संसार को बहुत अच्छा संदेश जाए सब हंसी खुशी के साथ रह सकें।

पत्र में लिखा गया, बाबरी पक्षकार खुशियां देते हैं तो गले लगा दिया जाएगा यदि बेजा अनुचित हठ किया तो सीमा पार खदेड़ दिया जाएगा। इकबाल अंसारी की सूचना पर राम जन्मभूमि थानाध्यक्ष प्रदुम्न सिंह इकबाल अंसारी के आवास पर पहुंच कर जांच पड़ताल की।

पत्र सूर्य प्रकाश सिंह निवासी दादरा जिला अमेठी के नाम से आया है। जिसमें उसने खुद को श्री राम जन्मभूमि कारसेवा वाहिनी का सदस्य भी बताया है। खत भेजने वाले शख्स ने अयोध्या और श्री राम का जिक्र करते हुए बाबर का इतिहास बताया है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

धम’की भरे खत में लिखा है कि मैंने तुम्हारा बहुत बड़ा भूभाग भारत के आजाद होने के वक्त 1947 में पाकिस्तान को दे दिया। खत में यह भी लिखा गया रहा कि अगर बाबरी पक्षकार खुशियां देते हैं तो उन्हें गले लगा लिया जाएगा। अगर वे किसी तरह का विवाद करते हैं और वे उस पर अनुचित हक जताते हैं तो उन्हें बॉर्डर पार से खदेड़ दिया जाएगा। क्योंकि भारत  600 राजन्य परिवारों की रियासत है जो राम के वशंज हैं। यह हिंदुओ का हिस्सा है। आपको इसे समझना होगा।

इकबाल अंसारी ने बताया कि पत्र कोरियर से आया है। उन्होंने कहा कि मैं बाबरी मस्जिद का पक्षकार हूं, मैं चाहता हूं कि इस पत्र को प्रशासन, मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को दिखाया जाए। जिससे उन्हें पता चले कि मुझे जा’न का खतरा है। अंसारी ने यह भी कहा कि अगर मुझे कुछ हो गया तो इसकी जिम्मेदारी शासन और प्रशासन की होगी।

पत्र लिखने वाले शख्स सूर्य प्रकाश सिंह को अमेठी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अमेठी पुलिस ने आरोपी को फैजाबाद पुलिस को सौंप दिया है।

Loading...