Thursday, July 29, 2021

 

 

 

बाबरी मस्जिद केस: लखनऊ में मुस्लिम पक्षकारों की अहम बैठक

- Advertisement -
- Advertisement -

बाबरी मस्जिद-राम जन्म भूमि विवाद के समाधान के लिए सुप्रीम कोर्ट की और से मध्यस्थता के लिए गठित की गई तीन सदस्यीय टीम मंगलवार को विशेष विमान से अयोध्या पहुंच चुकी है। मध्यस्थों के दल की सहूलियत के लिए राज्य शासन के आदेश पर जिला प्रशासन ने अयोध्या स्थित अवध यूनिवर्सिटी परिसर में मिनी सेक्रेटेरियेट भी तैयार कर दिया है।

वहीं दूसरी और मुस्लिम पक्षकारों के बीच लखनऊ में मंगलवार को अहम बैठक होगी। यह बैठक बाबरी एक्शन कमेटी के जफरयाब जिलानी की मौजूदगी में शहर के इस्लामिया कॉलेज में होगी। इस बैठक में शामिल होने के लिए बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब, इकबाल अंसारी और मोहम्मद उमर अयोध्या से लखनऊ पहुंच गए हैं।

बैठक से पहले इकबाल अंसारी ने सुप्रीम कोर्ट के द्वारा अयोध्या विवाद को हल करने के प्रयासों का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि वह इसका सम्मान करते हैं। अयोध्या विवाद के सभी पक्षकार चाहते हैं कि मसला हल हो। हालांकि कोर्ट के पैनल में शामिल श्री श्री रविशंकर का अयोध्या के संतों के साथ-साथ इकबाल ने भी विरोध किया है।

babri masjid

उन्होंने कोर्ट से पैनल में और लोगों को शामिल करने की मांग की है। इकबाल अंसारी ने कहा कि कोर्ट ने जो भी किया, वह सब ठीक है लेकिन श्री श्री रविशंकर का वे विरोध करते हैं। इससे पहले  श्री रविशंकर को शामिल किए जाने पर AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने आपत्ति जता चुके है।

एआईएमआईएम नेता ने कहा कि ‘यह ज्यादा बेहतर होता कि सुप्रीम कोर्ट उनकी जगह किसी तटस्थ व्यक्ति को पैनल में शामिल किया होता।’ समाचार एजेंसी ओवैसी ने कहा, ‘श्री श्री रविशंकर को मध्यस्थत के रूप में पैनल में शामिल किया गया। वह पहले कह चुके हैं कि मुस्लिम यदि अयोध्या पर अपना दावा नहीं छोड़ते तो भारत सीरिया बन जाएगा। यह बेहतर होता कि सुप्रीम कोर्ट उनकी जगह एक तटस्थ व्यक्ति को पैनल में शामिल करता।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles