दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में जारी हिं’सा को रोकने में नाकाम दिल्ली पुलिस को अब स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस को फ्री हैंड दिया गया है। बता दें कि हिंसा में मरने वालों की संख्या 13 से बढ़कर 20 हो गई हैं। गुरु तेग बहादुर अस्पताल ने चार और लोगों के मरने की पुष्टि की है।

इसी बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल आज देर रात हालात का जायजा लेने के लिए सीलमपुर पहुंचे। डोभाल ने पुलिस के आला अधिकारियों से बातचीत की। सीलमपुर स्थित डिप्टी कमिश्नर ऑफ नॉर्थ-ईस्ट पुलिस के ऑफिस में करीब एक घंटे तक पुलिस कमिश्नर समेत पुलिस के अन्य आला अफसरों के साथ बैठक करने के बाद अजीत डोभाल सीलमपुर से निकल गए।

एनडीटीवी के अनुसार, “राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल को दिल्ली में हो रही हिंसा की घटनाओं को काबू करने की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है। वह प्रधानमंत्री तथा केंद्रीय मंत्रिमंडल को हालात के बारे में ब्रीफ करेंगे। डोभाल ने NDTV से कहा, “मैं आश्वासन देता हूं कि कानून का पालन करने वाले किसी भी नागरिक को कोई भी किसी भी तरह की हानि नहीं पहुंचा पाएगा। पर्याप्त बल तैनात है, किसी को डरने की ज़रूरत नहीं है। लोगों को वर्दीधारियों पर भरोसा करना होगा।

इससे पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल मंगलवार की देर रात दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों की स्थिति की समीक्षा करने के लिए पहुंचे थे। वो पहले नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के डीसीपी वेद प्रकाश सूर्या के दफ्तर पहुंचे। यहां उन्होंने अधिकारियों से मीटिंग की। इसके बाद डोभाल सीलमपुर रवाना हो गए। उनके साथ दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक भी मौजूद थे। एनएसए ने हिंसा में मारे और घायल हुए लोगों के अलावा हिरासत में लिए गए आरोपियों के बारे में भी जानकारी ली।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के दंगों पर काबू पाने के लिए गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार रात तक 24 घंटे के अंदर 3 बैठकें कीं। दिल्ली के नए विशेष आयुक्त (कानून व्यवस्था) एसएन श्रीवास्तव के साथ देर रात तक तीन घंटे बैठक चली। इसके बाद एनएसए अजित डोवाल हालात का जायजा लेने के लिए सीलमपुर पहुंच गए।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन