Friday, June 18, 2021

 

 

 

मोहन भागवत से मुलाक़ात पर ऑस्ट्रेलियाई उच्चायुक्त के इस्तीफे की उठी मांग

- Advertisement -
- Advertisement -

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत से मुलाक़ात करने को लेकर सीनेटर जेनेट राइस ने अपने देश के उच्चायुक्त को बैरी ओ’फ्रायर के इस्तीफे की मांग की है।

ऑस्ट्रेलिया के भारत में राजदूत बैरी ओ फरेल एओ को संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने उन्हें संघ के कार्यो के बारे में जानकारी दी थी। मोहन भागवत से भेंट के बाद ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त ने कहा था कि “कोविड-19 के दौरान आरएसएस लगाार सक्रिय रहा है। मैने सरसंघचालक मोहन भागवत से भेंट की, जिन्होंने इन चुनौतीपूर्ण समय के दौरान राहत उपायों को साझा किया।”

आरएसएस और भागवत की प्रशंसा की तुलना जेनेट राइस ने आरएसएस के हिटलर के प्रति खुली प्रशंसा और उसके नाज़ी शासन के तहत होने वाले विनाशकारी नरसंहार से की। उन्होने कहा, समय और समय फिर से आरएसएस ने भारत के लोगों की अभिव्यक्ति, भाषण और सुरक्षा की स्वतंत्रता पर हमला किया है।

उन्होने कहा, वे हिंदू राष्ट्र की वकालत करते है। जिसमे कुछ गैर-हिंदू नागरिकों के उत्पीड़न को प्रोत्साहित करते हैं। विशेष रूप से मुस्लिम पृष्ठभूमि के। उन्होने कहा, “वह हाल के दिनों में आरएसएस प्रमुख से मिलने वाले किसी भी देश के केवल दूसरे राजनयिक हैं। यह एक अपमान है, और हमारा मानना ​​है कि उच्चायुक्त को इस्तीफा देना चाहिए। इससे पहले, जर्मन राजदूत वाल्टर लिंडनर की आरएसएस नेताओं के साथ बैठक में भी बड़े पैमाने पर विवाद हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles