hm 3 2 650 031116022221

hm 3 2 650 031116022221

अहमदाबाद | प्रधानमंत्री मोदी के बेहद करीबी माने जाने वाले गौतम अडानी, फ़िलहाल देश के सबसे बड़े बिज़नस मैन बनने की और अग्रसर है. केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद उनके कारोबार में अप्रत्याशित वृद्धि देखी गयी है. उनकी कंपनी को देश विदेश में कई महतवपूर्ण प्रोजेक्ट मिल चुके है. कई प्रमुख खदानों के ठेकों से से लेकर लाइसेंस और बड़े प्रोजेक्ट आज अडानी समूह की कंपनियों के पास है.

अडानी समूह के पास ऑस्ट्रेलिया की भी कुछ परियोजनो का ठेका मिला हुआ है. हालाँकि कंपनी के लोगो का कहना है की यह सब मेहनत और ईमानदारी की वजह से हुआ है. लेकिन यह कितना सही है और कितना गलत, इसमें केंद्र सरकार की और से कितनी सहायता की गयी, यह तो जांच के बाद ही पता चल सकता है. लेकिन ऐसे मामलो की जाँच भी आसान नही होती. इसका एक उदाहरण अभी हाल ही में सामने आया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

दरअसल अडानी समूह के बढ़ते प्रभाव की जांच करने के लिए ऑस्ट्रेलिया के कुछ पत्रकार गुजरात आये थे. यहाँ वो प्रदेश की सबसे बड़ी कोयला खदान पर एक रिपोर्ट तैयार कर रहा था. यह परियोजना भी अडानी समुह के पास है. इस दौरान इन पत्रकारों ने काफी लोगो से बात कर कुछ तथ्य भी जुटाए. लेकिन जब इस बात की जानकारी गुजरात पुलिस को मिली तो उन्होंने पत्रकारों के साथ बदसलूकी की और उन्हें धमकाते हुए यहाँ से जाने के लिए कहा.

ऑस्ट्रेलिया के चैनल ‘4 कार्नर्स’ के पत्रकार स्टीफन लॉँग ने ट्विटर पर एक विडियो जारी कर बताया की गुजरात पुलिस जबरदस्ती उनके कमरे में घुस आई और उनके साथ 5 घंटे तक पूछताछ की. इस दौरान उन्होंने हमें धमकाते हुए यहाँ से चले जाने के लिए भी कहा. स्टीफन का यह भी आरोप था की इस दौरान एक पुलिस अधिकारी बार बार फ़ोन पर बात करने के लिए बाहर जा रहा था और वापिस आने के बाद और सख्ती से हमसे बात कर रहा था. वे लोग अच्छी तरह जानते थे कि हम वहां क्यों आए हैं, लेकिन कोई भी ए (अडानी) शब्द मुंह से नहीं निकाल रहा था.

“Everybody was avoiding the ‘A’ word – Adani.” The #4Corners crew were questioned on and off for 5 hours by Indian police: pic.twitter.com/GkjByUCPc0

Loading...