Saturday, November 27, 2021

औरंगाबाद हिंसा: इंजीनियर बनना चाहता था हारिस, दंगों में हुई मौत

- Advertisement -

महाराष्ट्र का औरंगाबाद शहर शुक्रवार रात से सांप्रदायिक हिंसा की आग में झुलस रहा है. दो पक्षों में हुए उग्र विवाद के चलते एक नाबालिग सहित दो लोगों की मौत हो गई है. जबकि पचास से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे है.

सांप्रदायिक हिंसा शहर के गांधीनगर, राजाबाजार और शाहगंज इलाकों में फैली हुई है. हिंसा पर काबू पाने के लिए औरंगाबाद के पुराने हिस्से में बड़ी संख्या में पुलिस की तैनाती की गई है और धारा 144 लागू कर दी गई है.  मोबाइल, इंटरनेट सेवाएं अगले आदेश तक बंद कर दी गई हैं.

हिंसा में मारा गया नाबालिग मोहम्मद हारिस दसवीं क्लास में पढ़ता था. परिजनों के अनुसार, उनका बेटा गोलीबारी में मारा गया. वह बड़ा होकर इंजीनियर बनना चाहता था. पुलिस ने अब तक 24 लोगों को गिरफ्तार किया है.

aur

हिंसा में एसीपी गोवर्धन कोलेकर सहित कम से कम 10 पुलिसकर्मी भी बुरी तरह घायल बताए जा रहे है. इसके अलावा पुलिस स्टेशन के चीफ हेमंत कदम और इंस्पेक्टर श्रीपद परोपकारी भी घायल हुए हैं.

पुलिस का कहना है कि अब तक यह पता नहीं चल सका है कि हिंसा किस बात को लेकर भड़की. कहा जा रहा है कि अवैध रूप से लगाई गई पानी की पाइप लाइन काटने में भेदभाव के चलते यह झगड़ा शुरू हुआ. वहीं व्यावसायिक वर्चस्व की बात भी सामने आ रही है.

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles